Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

करतारपुर कॉरिडोर/ अगर दोनों देश चाह लें तो कश्मीर का मुद्दा हल किया जा सकता हैः इमरान खान

पाकिस्तान की तरफ से करतारपुर कॉरीडोर के शिलान्यास के मौके पर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने दोस्ती की बातें की। उन्होंने इस मौके पर कहा कि अगर हिंदुस्तान दोस्ती का एक कदम बढ़ाएगा तो हम दो कदम बढ़ाएंगे।

करतारपुर कॉरिडोर/ अगर दोनों देश चाह लें तो कश्मीर का मुद्दा हल किया जा सकता हैः इमरान खान
पाकिस्तान की तरफ से करतारपुर कॉरिडोर के शिलान्यास के मौके पर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने दोस्ती की बातें की। उन्होंने इस मौके पर कहा कि अगर हिंदुस्तान दोस्ती का एक कदम बढ़ाएगा तो हम दो कदम बढ़ाएंगे। दोनों देश आपस में सभी मसले हल कर सकते हैं। इस मौके पर उन्होंने कहा कि करतारपुर कॉरिडोर सिखों के लिए खुला है और उनके चेहरों की चमक देख कर मुझे खुशी मिल रही है।
इमरान खान ने कहा कि भारत पाकिस्तान दोनों ही परमाणु शक्ति हैं। ऐसे में दोनों देश इतने तो मूर्ख हैं नहीं कि जंग का रास्ता अपनाने की कोशिश करेंगे। तो फिर केवल बातचीत का रास्ता बचता है। कश्मीर का मुद्दा बातचीत से हासिल किया जा सकता है।
यहां उन्होंने फ्रांस और जर्मनी का उदाहरण दिया। उन्होंने कहा कि दोनों देशों के बीच पहले संबंध खराब थे। लेकिन आज दोनों के बीच एक बेहतर संबंध हैं। हम भी चाहते हैं कि भारत पाकिस्तान दोनों के बीच बेहतर संबंध हों। कश्मीर का मुद्दा हमें बात चीत से हल करना चाहते हैं।
उन्होंने नवजोत सिंह सिद्धू का बचाव करते हुए कहा कि जब वह पिछली बार पाकिस्तान आए तो उन्हें बहुत सारी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा। अगर कोई अमन की बात करता है तो पाकिस्तान उसका स्वागत जरूर करेगा।

सिद्धू बनें प्रधानमंत्री

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि हमें जल्द से जल्द सभी मसले हल करके अमन लाना चाहिए। नवजोत सिंह सिद्धू जब पाकिस्तान आए तो यहां से जाने के बाद उन्हें बहुत सी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा। मैं चाहता हूं कि अगर कोई पाकिस्तान के साथ मसले सुलझाना चाहता है तो उसमें हर्ज ही क्या है।

उन्होंनें सिद्धू को संबोधित करते हुए कहा कि अगर आप पाकिस्तान में चुनाव लड़ जाएं तो यहां भी जीत जाएं। खासतौर से पंजाब में। हमें उम्मीद है कि भारत-पाक के मसले जल्दी से जल्दी हल होंगे। हम चाहते हैं भारत में एक ऐसी सरकार हो जो दोनों देशों के बीच शांति वार्ता स्थापित करने पर जोर दे। न कि हमें सिद्धू के प्रधानमंत्री बनने का इंतजार करना पड़े। कि जब वो प्रधानमंत्री बनें तब दोनों देशों में अमन आएगा।
Next Story
Top