Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

SC का अहम फैसला केजी बोपैया प्रोटेम स्पीकर बने रहेंगे, बोपैया ही शक्ति परीक्षण कराएंगे, फ्लोर टेस्ट का लाइव टेलीकास्ट होगा

कांग्रेस समेत जेडीएस ने केजी बोपैया को कर्नाटक विधानसभा का प्रोटेम स्पीकर नियुक्त करने के फैसले को सु्प्रीम कोर्ट में चुनौती दी है।

SC का अहम फैसला केजी बोपैया प्रोटेम स्पीकर बने रहेंगे, बोपैया ही शक्ति परीक्षण कराएंगे, फ्लोर टेस्ट का लाइव टेलीकास्ट होगा
X

कर्नाटक में सियासी बवाल रुकने का नाम नहीं ले रहा है। हर पल कोई ना कोई विवाद सामने आकर खड़ा हो जाता है। अब ताजा विवाद कर्नाटक विधानसभा में नवनिर्मित प्रोटेम स्पीकर कि नियुक्ति को लेकर है।

जिनकी नियुक्ति को लेकर कांग्रेस समेत जेडीएस ने केजी बोपैया को कर्नाटक विधानसभा का प्रोटेम स्पीकर नियुक्त करने के फैसले को सु्प्रीम कोर्ट में चुनौती दी है।सुप्रीम कोर्ट आज सुबह 10.30 कर्नाटक विधानसभा में नियुक्त प्रोटेम स्पीकर को लेकर सुनवाई करेगा।

लाइव अपडेट

-सिंघवी ने कहा कि बहुमत परीक्षण के लिए लाइव फीड से संतुष्ट

-अभिषेक मनु सिंघवी हम कोर्ट के फैसले का सम्मान करते है।

-SC का अहम फैसला केजी बोपैया प्रोटेम स्पीकर बने रहेंगे, बोपैया ही शक्ति परीक्षण कराएंगे, शक्ति परीक्षण का लाइव टेलीकास्ट होगा

-कपिल सिब्बल बोपैया को फ्लोर टेस्ट कराने की इजाजत नहीं दी जाएं

- जस्टिस सीकरी हम स्पीकर की नियुक्ति नहीं कर सकते

-जस्टिस बोबडे नियुक्ति को चुनौती देने पर नोटिस जारी करना पड़ेगा

-जस्टिस बोबडे प्रोटेम स्पीकर ही शक्ति परीक्षण कराए

-जस्टिस बोबडे ने कपिल सिब्बल की दलील पर कहा कि इससे पहले भी विधानसभा में सीनियर विधायक भी प्रोटेम स्पीकर बने है।

-कपिल सिब्बल ने केजी बोपैया पर आरोप लगाते हुए कहा कि उनका इतिहास दागदार रहा है।

-कपिल सिब्बल ने कहा कि विधानसभा में हमेशा से ही वरिष्ठ नेता को वरीयता देने की परंपरा है। राज्यपाल ने केजी बोपैया को प्रोटेम स्पीकर नियुक्त कर गलत परंपरा का पालन किया है।

आपको बता दे कि कांग्रेस ने प्रोटेम स्पीकर के अधिकार को सीमित करने की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है। आपको बता दे कि याचिका में कहा गया है कि कर्नाटक विधानसभा में प्रोटेम स्पीकर की नियुक्ति नियमों के खिलाफ की गई है।

ये भी पढ़ेःकर्नाटकः सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद विधानसभा में आज होगा शक्ति परीक्षण, शाम 4 बजे होगा फ्लोर टेस्ट

कांग्रेस का कहना है कि बीजेपी ने जूनियर विधायक को प्रोटेम स्फीकर बना दिया है। याचिका में कहा गया है कि विधानसभा में फ्लोर टेस्ट को पारदर्शी तरीके से कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट इस मामले में तत्काल निर्देश दे।

यही नहीं इसके साथ ही याचिका में यह भी कहा गया है कि प्रोटेम स्पीकर विधायकों को शपथ दिलाने और फ्लोर टेस्ट कराने के अलावा किसी दूसरे अधिकार को इस्तेमाल करने पर रोक लगे।

बता दे कि याचिका में कहा गया है कि हमेशा से ही पार्टीलाइन से ऊपर उठकर किसी वरिष्ठ विधायक को प्रोटेम स्पीकर बनाया जाता रहा है। दायर याचिका में आरोप लगाया गया है कि राज्यपाल का बोपैया को नियुक्त करने का फैसला संसदीय परंपरा के खिलाफ है। याचिका में कहा गया है कि प्रोटेम स्पीकर सभी विधायकों को शपथ दिलाकर स्पीकर का चुनाव कराता है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top