Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कर्नाटक चुनाव 2018: टिकट को लेकर कांग्रेस पार्टी में मचा घमासान, अखरी फैसला लेंगे राहुल गांधी

कर्नाटक के विधानसभा के चुनावों को लेकर देश की सियासत में हंगामा मच गया है। इस चुनाव ने कांग्रेस की मुश्किले भी बढ़ा दी है। चुनाव से पहले ही कांग्रेस में टिकट बंटवारे को लेकर हंगामा मच गया है।

कर्नाटक चुनाव 2018: टिकट को लेकर कांग्रेस पार्टी में मचा घमासान, अखरी फैसला लेंगे राहुल गांधी
X

कर्नाटक के विधानसभा के चुनावों को लेकर देश की सियासत में हंगामा मच गया है। इस चुनाव ने कांग्रेस की मुश्किले भी बढ़ा दी है। चुनाव से पहले ही कांग्रेस में टिकट बंटवारे को लेकर हंगामा मच गया है।

कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने रिश्तेदारों के लिए टिकट की मांग की है। वहीं दूसरी तरफ पार्टी के अन्य नेताओं ने इसका विरोध किया है। अब इन टिकट पर अंतिम फैसला पार्टी के आध्यक्ष राहुल गांधी को करना होगा।

ये भी पढ़े: शिल्पा शेट्टी के हॉट बैली डांस को देखकर उड़ गए वरूण धवन के होश, देखें वीडियो

टिकट को लेकर लिस्ट सामने आई है, जिसमें मुख्यमंत्री सिद्धारमैया के बेटे यथेंद्र, गृह मंत्री आर रामलिंगा रेड्डी की बेटी सौम्या रेड़्डी, पूर्व राज्य मंत्री केएच मुनियप्पा की बेटी रूपा और कांग्रेस के अन्य नेताओं के रिश्तेदारों के नाम भी इसमें है।

इस टिकट बंटवारे पर पार्टी के पुराने कार्यक्रताओं ने इसका विरोध किया है और उन्होंने आगे कहा है कि भविष्य में यह पार्टी के लिए काफी नुकसान दायक है। सूत्रों का कहना है कि इस लिस्ट को एक से दो दिन में राहुल गांधी के पास भेजी जाएगी।

पिछले हफ्ते कांग्रेस स्क्रीनिंग कमेटी की मीटिंग में टिकट के बंटवारे को लेकर काफी घमासान मच गया था। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री एम वीरप्पा मोइली और पीडब्लयूडी मंत्री महादेवप्पा के बीच जमकर बहसबाजी भी हूई थी। क्योंकि वीरप्पा मोइली अपने बेटे को टिकट दिलाना चाहते थे।

वहीं मुख्यमंत्री सिद्धारमैया चाहते है कि मैसूर जिले से उनके बेटे को टिकट मिले, जिससे उनके बेटे की जीत आसान हो जाए।

ये भी पढ़े: कांग्रेस चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग के लिए तैयारी, फारूक अब्दुल्ला ने दिया बड़ा बयान

रामलिंगा रेड्डी भी अपनी बेटी के लिए बेंगलुरु के जयनगर की सीट के लिए टिकट की मांग की है, केएच मुनिप्पा ने भी अपनी बेटी के लिए कोलार गोल्ड जिले की सीट के लिए मांग की है।

बता दें कि मार्गरेट अल्वा भी अपने बेटे को सिरसी की सीट पर चुनाव लड़वाना चाहते है, मगर विधानसभा और 2014 लोकसभा चुनाव में अपने बेटे को टिकट ना मिलने से भी नाराज थे। इस पर सिद्धारैमया ने कहा है कि चुनाव जीतना ज्यादा जरूरी है और अखरी फैसला पार्टी के आध्यक्ष लेंगे।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top