Top

आम आदमी की सेवा के लिए न्यायपालिका को क्रांति की जरूरत: जस्टिस गोगोई

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Jul 13 2018 12:32AM IST
आम आदमी की सेवा के लिए न्यायपालिका को क्रांति की जरूरत: जस्टिस गोगोई
उच्चतम न्यायालय के वरिष्ठ न्यायाधीश न्यायमूर्ति रंजन गोगोई ने आज कहा कि न्यायपालिका को आम आदमी की सेवा के योग्य बनाए रखने के लिए ‘‘सुधार नहीं एक क्रांति' की जरूरत है। न्यायमूर्ति गोगोई ने साथ ही इस बात पर भी जोर दिया कि न्यायपालिका को और ‘‘अधिक सक्रिय' रहना होगा। 
 
 
न्यायमूर्ति गोगोई ने यहां तीन मूर्ति भवन के प्रेक्षागृह में ‘‘न्याय की दृष्टि' विषय पर तीसरा रामनाथ गोयनका स्मृति व्याख्यान में कहा कि न्यायपालिका ‘‘उम्मीद की आखिरी किरण' है और वह ‘‘महान संवैधानिक दृष्टि का गर्व करने वाला संरक्षक' है। इस पर समाज का काफी विश्वास है। 
 
उन्होंने समाचार पत्र ‘इंडियन एक्सप्रेस' में ‘हाउ डेमोक्रेसी डाइज' शीर्षक से प्रकाशित एक लेख का उल्लेख करते हुए कहा कि ‘‘...स्वतंत्र न्यायाधीश और मुखर पत्रकार लोकतंत्र की रक्षा करने वाली अग्रिम पंक्ति हैं...। '
 
उन्होंने न्याय प्रदान करने की ‘‘धीमी प्रक्रिया' पर चिंता जतायी और कहा कि यह ऐतिहासिक चुनौती रही है।

ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
judiciary needs revolution to serve the common man says justice ranjan gogoi

-Tags:#Justice Ranjan Gogoi#Ramnath Goenka Memorial Lecture#Aam Aadmi#supreme court#
mansoon
mansoon
mansoon

ADS

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo