Top

आ गया आंखों के लेंस बनाने वाला रोबोट, मोतियाबिंद का इलाज संभव

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Oct 5 2017 4:18PM IST
आ गया आंखों के लेंस बनाने वाला रोबोट, मोतियाबिंद का इलाज संभव

भारत में मूक रोबोट्स क्रांति की शुरूआत जल्द ही होने जा रही है। यूनिवर्सल कोबॉट्स रोबोट्स अब मोतिबिंद की खतरनाक बिमारी से निजात दिलाने के लिए लेंस विकसित करते दिखेंगे, इस लेंस को मरीज की आंखों में लगाने से मोतिबिंद का इलाज संभव हो जाएगा। अभी तक मोतियाबिन्द का ऑप्रेशन लेज़र विधि से किया जाता है।

इसे भी पढें : 24 साल बाद भारत को फिर से दहलाने की दाऊद ने रची साजिश

ये रोबाट्स इंसान की तरह ही काम करता है और दुनिया भर के 150 से ज्यादा देशो मे इस तकनिकी का प्रयोग हो रहा है। कंपनी का दावा है कि भारत में इस तकनीक को 2 साल के अंदर मार्किट में उतार दिया जाएगा। भारत इसके लिए ऊभरता हुआ बाजार दिख रहा है।

इस रोबोट्स का प्रयोग चीन, जापान मुख्य रूप से कर रहे है। यूनिवर्सल रोबोट्स के अध्यक्ष, युर्गन वॉन हॉलन ने कहा है कि ये रोबोट्स अपने ग्राहकों के साथ स्वास्थ्य, सेवा प्रदाता अरविंद आई अस्पताल और भारतीय अनुसंधान संस्थान कामपुर में सफलता से काम कर रहा है। इसी को ध्यान में रखकर कंपनी भारत को लक्ष्य बनाकर काम कर रही है।

इसे भी पढें: हनीप्रीत के वकील ने कोर्ट में दी ये दलील, हनीप्रीत ने जज से कहा ये

कंपनी की सीईओ हेलन का कहना है कि इसको खरीदने के लिए अमेरिका, यूरोप के देशो ने बडी तादात में निवेश किया है। भारत भी इसमें ग्लोबली रूप से निवेश करने में पीछे नहीं हटेगा। ये रोबोट्स मोतियाबिंद का इलाज करने के लिए लेंस भी खुद ही डिजाइन करता है  

 

ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
jobs a silent cobots revolution is brewing in indian workspaces articleshow

-Tags:#Robots Technology#Collaborative Robots#Aravind Eye Hospital#Cobots
mansoon
mansoon
mansoon

ADS

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo