Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

एक ही मां के बेटे हैं जिग्नेश, उमर, कन्हैया और शहला रशीद, जानिए कौन है ये औरत

पिछले साल अगस्त में हुए उना कांड के बाद चर्चा में आए जिग्नेश मेवाणी अब वडगाम से एक विधायक बन गए हैं।

एक ही मां के बेटे हैं जिग्नेश, उमर, कन्हैया और शहला रशीद, जानिए कौन है ये औरत
X

पिछले साल अगस्त में हुए उना कांड के बाद चर्चा में आए जिग्नेश मेवाणी अब वडगाम से एक विधायक बन गए हैं। उना कांड में जिग्नेश ने लगभग 20 हजार दलितों को एक साथ मरे जानवर न उठाने और मैला न ढोने की शपथ दिलाई थी। मेवाणी ने कहा था की दलित अब सरकार से अपने लिए दूसरे काम की बात करेंगे।

इस दौरान जिग्नेश मेवाणी ने ‘दलित अस्मिता यात्रा’ भी निकाली। इसी यात्रा की अहमदाबाद में समाप्ति थी और एक जनसभा का रूप दिया गया। जिसमें पहली बार जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र अध्यक्ष कन्हैया कुमार और उमर खालिद ने भी शिरकत की।

इसे भी पढ़ेंः जिग्नेश की 'युवा हुंकार रैली' में पहुंचे प्रशांत भूषण, केंद्र सरकार पर साधा निशाना

इस सभा में रोहित वेमुला की मां भी शामिल हुई थी। इस सभा दलित, पिछड़े और मुस्लिम समुदाय से ताल्लुक रखने वाले युवा नेता भी शामिल हुए। इसके अलावा भी जिग्नेश मेवाणी और कन्हैया कुमार ने कई रैलियों को एक साथ संबोधित किया है।

इस सभा में साथ आने के बाद जिग्नेश मेवाणी का कद गुजरात के साथ-साथ जेएनयू में भी बढ़ा। जिग्नेश मेवाणी प्रचार-प्रसार के लिए जेएनयू आने लगे। उन्हें यहां होने वाली सेमिनारों में बुलाया जाने लगा।

जेएनयू छात्रसंघ की पूर्व अध्यक्ष शेहला रशीद ने जिग्नेश मेवाणी को चर्चाओं और सेमिनार में बुलाया। आज हुई 'युवा हुंकार रैली' का पूरा आयोजन और समर्थकों को जुटाने का पूरा जिम्मा शेहला रशीद ने उठाया। जब रैली को परमिशन नहीं मिली तो ट्वीट के माध्यम से दिल्ली पुलिस को प्रतिक्रिया दी।

जेएनयू के ही एक छात्र और हैं उमर खालिद। उमर खालिद के साथ जिग्नेश मेवाणी पिछले एक साल से टच में है। शौर्य दिवस को भीमा कोरेगांव में हिंसा हुई। पुलिस का आरोप है कि उमर खालिद और जिग्नेश मेवाणी ने 31 दिसंबर को आयोजित एक कार्यक्रम में भड़काऊ भाषण दिया और इसी वजह से 1 जनवरी को भीमा कोरेगांव में हिंसा भड़की।

गौरी लंकेश ने लिया था गोद

इसके अलावा जेएनयू के इन तीनों छात्रों और जिग्नेश मेवाणी का एक और संबंध। ये सभी एक ही मां के बेटे हैं। मतलब ये कि जिग्नेश मेवाणी, कन्हैया कुमार, शेहला रशीद और उमर खालिद को कन्नड़ की वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश ने गोद लिया था। पिछले साल पांच सितंबर 2017 को कुछ हिंदूवादी लोगों ने गौरी लंकेश की गोली मारकर हत्या कर दी थी।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story