Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

नोट बदलवाने के चक्कर में इस सुनार ने गंवाए 50 लाख रुपए

सुनार को किसी ने 50 लाख रुपए का चूना लगा दिया।

नोट बदलवाने के चक्कर में इस सुनार ने गंवाए 50 लाख रुपए
हैदराबाद. सरकार की नोटबंदी की घोषणा के बाद से सभी लोगों में हलचल सी मच गई है। सभी लोग अपने-अपने पैसों को अपने बैंक खातों में जमा करने लगे हैं। काफी लोगों को इसकी वजह से कई दिक्क्तों का सामना करना पड़ रहा है। कई लोगों मे पुराने नोटों को बदलवाने के लिए बैंकों में अफरा-तफरी का माहौल बना हुआ है। ऐसे में कई घटनाएं भी घटित हो रही है। एक घटना हैदराबाद शहर में सुनार को झेलनी पड़ी है। सुनार को किसी ने 50 लाख रुपए का चूना लगा दिया।
दरअसल मामला ये है कि 500-1000 के नोट बंद होने के बाद अपने पैसों को छोटे मूल्य के नोटों में बदलवाने के चक्कर में हैदराबाद शहर के सुनार को 50 लाख रुपए का चूना लग गया। पुलिस को शक है कि यह पूरा मामला नकली पुलिस को हो सकती है।
इलाके की राजेंद्रनगर पुलिस ने बताया कि दिनेश जूलर दुकान के मालिक दीपक ने शिकायत दर्ज करवाई है कि उनके एक ग्राहक ने उन्हें किसी जानकार की सूचना दी जो उनके नोटों को बदल सकता था। ग्राहक की बात मानकर दीपक अपने 50 लाख रुपयों के साथ अट्टापुर पहुंचे।
डीसीपी पी वी पद्मजा ने कहा, 'जैसी ही जूलरी दुकान के मालिक दीपक ने मेन रोड पर पेट्रोलिंग पुलिस को देखा पकड़ने जाने के डर से उन्होंने अपना रास्ता बदल लिया। उसी सड़क पर आगे जाकर दीपक की मुलाकात एक शख्स से हुई जिसने उनके पैसे बदलने की बात कही थी। लेकिन उस व्यक्ति ने दीपक को बताया कि चूंकि आज बैंक बंद हो चुके हैं और इलाके में पुलिस की मौजूदगी भी है इसलिए नोट बदलने की प्रक्रिया बुधवार तक के लिए टाल दी गई है।'
लेकिन जैसे ही दीपक वहां से वापस आने लगे बाइक सवार दो लोगों ने उनका पीछा किया और खुद को पुलिसवाला बताकर दीपक की कार को रुकने के लिए कहा। नकली पुलिस ने दीपक से उनका आईडी कार्ड मांगा और इतनी ज्यादा नकद राशि अपने साथ रखने को लेकर सवाल जवाब करने लगे।
उन दोनों ने कार की तलाशी ली और कहा कि इतना ज्यादा नकद रखने के आरोप में उनपर 200 प्रतिशत तक टैक्स लग सकता है। जब उन दोनों आरोपियों ने नकदी वाले बैग को पकड़ा तो दीपक ने पैसे देने से मना कर दिया लेकिन उन्होंने दीपक के हाथ से बैग छीन लिया और घटनास्थल से फरार हो गए।
पुलिस अब उस शख्स की तलाश कर रही है जिससे दीपक ने पहले मुलाकात की थी। पुलिस को शक है कि इस पूरे मामले में एक षडयंत्र रचा गया ताकि दीपक से उसके पैसे लूटे जा सकें। आईपीसी की धारा 384 के तरत केस दर्ज कर लिया गया है। पुलिस इलाके के सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही है ताकि आरोपी के बारे में जानकारी इक्ट्ठा की जा सके।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Hari bhoomi
Share it
Top