Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जयललिता... द अनटोल्ड स्टोरी

जयललिता को तमिलियन होने पर गर्व था।

जयललिता... द अनटोल्ड स्टोरी
X

नई दिल्ली. तमिलनाडु की मुख्यमंत्री और अभिनेत्री रह चुकी जयललिता का बीते सोमवार को निधन हो गया। जयललिता के निधन के बाद हर कोई उनके बारे में जानने को उत्सुक है। इन्होने अपने करियर की शुरुआत तमिल फिल्मों से की थी। वह न सिर्फ एक खूबसूरत और बेहतर नायिका थीं, बल्कि राजनीति में आने के बाद वह एक अच्छी और पथप्रदर्शक नेता के रूप में भी लोगों के सामने आईं। बतौर मुख्यमंत्री जयललिता लोगों के बीच खासा चर्चित थीं। ये न सिर्फ लोगों के लिए सॉफ्ट हार्टेड थीं बल्कि इन्हे जानवरों से भी बेहत प्यार था। इसी तरह जयललिता से जुड़ी कुछ बातें हम आपको बता रहें है जो आपने अब तक नहीं सुनी होगी.. तो चलिए आपको बताते हैं जयललिता..... द अनटोल्ड स्टोरी

जयललिता थीं 'डॉग लवर'

जयललिता एक खूबसूरत अभिनेत्री और बेहतरीन मुख्यमंत्री तो थी हीं, साथ ही वह एक जानवर प्रेमी भी थीं। उन्हे जानवरों में कुत्तों से बेहद लगाव था। दरअसल, इनके पास जूली नाम का डॉग भी था, जो उनके दिल के बेहद करीब था। लेकिन किसी कारणवश साल 1998 में जूली की मौत हो गई। उस वक्त जयललिता राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार की एक हिस्सा थी। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि एक दिन बैठक चल रही थी और उसी दौरान जयललिता आधी मीटिंग छोड़कर चली गई। वजह थी जूली। जूली जयललिता के इतने करीब थी कि उन्होने अपनी जरूरी मीटिंग तक छोड़ना जरूरी समझा। जूली की मौत के बाद जयललिता को हर वक्त हर जगह सिर्फ जूली ही दिखाई देती थी, जब उन्हे दूसरा एक कुत्ता रखने की सलाह दी गई तो उन्होने सीधे मना कर दिया, उन्होने कहा अब वह दूसरे डॉग को खुद से दूर नहीं देख सकतीं।

तमिलियन होने पर गर्व

जब जयललिता मैसूर में चामुंडी स्टूडियो में एक फिल्म के लिए शूटिंग कर रही थीं। शूटिंग के दौरान ही कुछ लोगों की भीड़ अंदर घुसी और जयललिता को खुद को तमिलियन कहने के लिए मांफी मांगने के लिए जबरदस्ती की गई। दरअसल, जयललिता को कैनेडियन बोलने के लिए कहा गया लेकिन, उन्होने उन्होने नहीं कहा, वे बेफिक्र होकर सिर्फ तमिलियन बोलने पर ही टिकी हुई थी। उन्होने कैनेडियन की भीड़ से कहा कि मैने तमिलियन बोलकर कोई गलती नहीं की है, जब मैं तमिलियन हूं तो कैनेडियन क्यूं कहूं।

बेहतरीन सेंस ऑफ ह्यूमर

पिछले दशक में, अन्ना विश्वविद्यालय के कुलपति ई बालगुरुसॉमी की जब मुख्यमंत्री जयललिता से मुलाकात हुई। कुछ देर बाद जब जयललिता वहां से जा रही थीं तब उन्होने अपने बालों के बारे में कुछ जानना चाहा। तब कुलपति ने कहा कि "मैडम, मैं आपको बता तो दूं, लेकिन आप गुस्सा तो नहीं करेंगी ना? जयललिता ने उन्हे आगे कहने के लिए कहा। बालगुरुसॉमी ने कहा कि उनका हेयरस्टाइल डीएमके लीडर एम करुणानिधि से जैसा है। तब वह हंसी और कहा कि कहा कि करुणानिधि को तो सिर पर बाल ही नहीं है। तब बालगुरुसॉमी ने कहा कि 1960 के दशक में श्री करुणानिधि का भी ऐसा ही कुछ हेयरस्टाइल था।

साभार- thehindu

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story