Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पीएम मोदी ने कहा -आबे जैसा दोस्त और जापान जैसा बैंक नहीं

जापान ने परियोजना के लिए 88 हजार करोड़ का लोन सिर्फ 0.1 फीसदी ब्याज पर दिया।

पीएम मोदी ने कहा -आबे जैसा दोस्त और जापान जैसा बैंक नहीं

जापान के पीएम शिंजो आबे और नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को यहां के साबरमती स्टेडियम ग्राउंड में बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट की नींव रखी। इस मौके पर मोदी ने इस प्रोजेक्ट के लिए सस्ती ब्याज दर पर लोन लेने का गुजराती तरीका बताया। उन्होंने बताया कि जापान ने 88 हजार करोड़ का लोन सिर्फ 0.1 फीसदी ब्याज दर पर दिया है। आबे जैसा दोस्त और बैंक नहीं मिलेगा।

इससे पहले शिंजो आबे ने अपने भाषण की शुरुआत नमस्कार से की। आबे ने कहा, मेरे दोस्त नरेंद्र मोदी एक वैश्विक नेता हैं। दो साल पहले उन्होंने बुलेट ट्रेन और न्यू इंडिया का फैसला लिया। मैंने और जापानी कंपनियों ने उनके सपने को पूरा करने के लिए प्रतिज्ञा ली है।

अगली बार यहां बुलेट ट्रेन से ही आऊंगा। बता दें कि 1.20 लाख करोड़ का ये प्रोजेक्ट 2022 तक पूरा हो जाएगा। इस ट्रेन के चलने से मुंबई-अहमदाबाद के बीच 500 किलोमीटर की दूरी 2 घंटे में तय की जा सकेगी।

मोदी ने सस्ते में लोन लेने का अहमदाबादी तरीका बताया

मोदी ने बताया, मैं इस अवसर पर जापान के एक और मित्र भाव की प्रशंसा करना चाहता हूं। हम भारतीय और विशेषकर गुजराती और अहमदाबादी, जब भी कोई चीज खरीदने जाते हैं तो एक-एक पैसे का हिसाब लगाते हैं। घाटे और फायदे के एक रूप-रंग को जांचते हैं। बैंक से लोन लेने जाते हैं, तब 10 बैंक का चक्कर काटते हैं।

एक बैंक में 10-10 बार जाते हैं। और देखते हैं कि कम रेट पर कौन सा बैंक लोन दे रहा है। अगर कोई आधा पर्सेंट भी कम कर दे तो खुशी मनाते हैं। ये हम अच्छे से जानते हैं। अहमदाबादी तो शायद बहुत अच्छे से जानता है। लेकिन कल्पना कीजिए दोस्तों, कोई ऐसा दोस्त, ऐसी बैंक नहीं मिल सकती, जैसा भारत को आबे जैसा दोस्त मिला है।

अगर कोई ये कहे कि बिना ब्याज के ही लोन ले लो और 10-20 नहीं 50 साल में चुकाना। तो कोई यकीन करेगा क्या? लोगों को ऐसे बैंक नहीं मिलते, लेकिन भारत को ऐसा दोस्त मिला है, जिसने बुलेट ट्रेन के लिए 88 हजार करोड़ सिर्फ 0.1 फीसदी ब्याज दर से बुलेट ट्रेन के लिए देने का फैसला किया है।

विरोधियों पर निशाना साधा

मोदी ने कहा, जब उन्होंने बुलेट ट्रेन की बात की तो लोग पूछते थे कि मोदी बुलेट ट्रेन कब लाएंगे। अब जब लाना शुरू किया तो लोग पूछ रहे हैं कि क्यों लाएंगे। बुलेट ट्रेन जापान की ओर से भारत को दी गई एक बहुत बड़ी सौगात है।

बुलेट ट्रेन के सफर की हवाई यात्रा से तुलना करते हुए मोदी ने कहा कि एयरपोर्ट जाने और औपचारिकता पूरी करने में जितना वक्त लगता है, उससे भी आधे समय में लोग अहमदाबाद से मुंबई के बीच आ-जा सकेंगे।

बुलेट ट्रेन की स्पीड को देश की तरक्की से जोड़ा

मोदी ने कहा, बुलेट ट्रेन एक ऐसा प्रोजेक्ट है जो सुरक्षा, रोजगार और रफ्तार लाएगा। देश को एक नई दिशा की तरफ ले जाएगा। आज का दिन दोनों देशों के लिए ऐतिहासिक है।

एक अच्छा दोस्त सीमा और समय से परे होता है और जापान ने आज ये दिखा दिया है। आज इतने कम समय में इस प्रोजेक्ट का भूमिपूजन हो रहा है, तो इसका पूरा श्रेय आबे को जाता है। उन्होंने पूरी रुचि लेकर कहा कि इसें कहीं कोई दिक्कत नहीं आनी चाहिए।

ये सपने पूरे करने का वक्त है

मोदी ने आगे कहा कि, मेरे करीबी मित्र शिंजो आबे का गुजरात की धरती पर बहुत स्वागत करता हूं। दुनिया के एक नेता, जापान के पीएम, मेरे खास दोस्त का आपने जो स्वागत किया। जो वातावरण बनाया उसके लिए मैं आप सबका आभारी हूं। दोस्तों कोई भी देश अधूरे सपनों के साथ आगे नहीं बढ़ सकता है।

सपनों की उड़ान ही देश को आगे लेकर जाती है। ये न्यू इंडिया है, इसकी इच्छा शक्ति असीमित है। आज भारत ने अपने सपने को पूरा करने के लिए बहुत बड़ा कदम उठाया है। मैं इस भूमिपूजन के मौके पर कोटि-कोटि शुभकामनाएं देता हूं।

हाईस्पीड कॉरिडोर के पास शहर बसेंगे

मोदी ने कहा, मानव सभ्यता में गांव नदी के किनारे बसते थे। आज जहां से हाईवे गुजरते हैं वहां लोग बसने लगे। आगे हाईस्पीड कॉरिडोर के पास शहर बसेंगे। ट्रांसपोर्ट सिस्टम देश में कनेक्टिविटी का आधार बनाती है।

जो लोग अमेरिका के बारे में जानते हैं उन्हें पता है कि कैसे रेलवे शुरू होने के बाद वहां आर्थिक विकास हुआ। 1964 में जापान में बुलेट ट्रेन चली तो कैसे जापान में विकास हुआ। रूस, चीन में भी बुलेट ट्रेन चलती है।

समय के साथ बदलाव जरूरी

मोदी ने कहा, समय के साथ बदलाव जरूरी है। छोटे-छोटे प्रयास किए गए हैं। नई चीजें जोड़ी गई हैं। समय ज्यादा इंतजार नहीं करता है। टेक्नोलॉजी बदली है। हाईस्पीड कनेक्टिविटी पर हमारा जोर है। इससे स्पीड बढ़ेगी, दूरी कम होगी। प्रोडक्टिविटी से आर्थिक विकास बढ़ेगा। हमारा जोर है हाई कनेक्टिविटी फॉर मोर प्रोडक्टिविटी।

शिंजो आबे ने कहा- मेक इन इंडिया के लिए तैयार है जापान

शिंजो आबे ने कहा, जापान मेक इन इंडिया के लिए तैयार है। अगर हमारी टेक्नोलॉजी और भारत की मेन पॉवर साथ काम करें तो भारत दुनिया का कारखाना बन सकता है। जापान की शिंकान्सेन सर्विस में एक भी हादसा नहीं हुआ।

हमारे रेल प्रोजेक्ट की एक टीम इस साल भारत आएगी और यहां सेफ्टी को लेकर काम करेगी। मैं एक बार फिर कहना चाहता हूं कि जापान और भारत के रिश्ते ग्लोबल पार्टनरशिप के रूप में पनपे हैं।

Next Story
Share it
Top