logo
Breaking

वार्ताकार दिनेश्वर शर्मा से कश्मीर घाटी में 30 प्रतिनिधियों ने की मुलाकात, हुर्रियत नेताओं पर फंसा पेंच

केंद्र की ओर से नियुक्त वार्ताकार दिनेश्वर शर्मा कश्मीर घाटी में विभिन्न पक्षों से मिलने के बाद अब जम्मू में बातचीत का सिलसिला शुरू करेंगे।

वार्ताकार दिनेश्वर शर्मा से कश्मीर घाटी में 30 प्रतिनिधियों ने की मुलाकात, हुर्रियत नेताओं पर फंसा पेंच

केंद्र की ओर से नियुक्त वार्ताकार दिनेश्वर शर्मा कश्मीर घाटी में विभिन्न पक्षों से मिलने के बाद अब जम्मू में बातचीत का सिलसिला शुरू करेंगे। सोमवार को श्रीनगर पहुंचे शर्मा ने इस दौरान करीब 30 प्रतिनिधियों से मुलाकात की। हालांकि इस दौरान अलगाववादियों से उनकी कोई वार्ता नहीं हुई।

यह भी पढ़ें: राहुल गांधी ने विजय रूपाणी केस को लेकर पीएम मोदी पर कसा तंज

कश्मीर घाटी में शर्मा को बहुत से अहम सुझाव और अनुरोध मिले। यह सामान्य मुद्दों से लेकर गंभीर विषयों को लेकर भी थे। शर्मा से मुलाकात करने वाले कई प्रतिनिधियों ने हुर्रियत कांफ्रेंस समेत अलगाववादी संगठनों से बातचीत करने पर भी जोर दिया।

यह भी पढ़ें: राजस्थान हाईकोर्ट ने लगाई ओबीसी विधेयक पर रोक, गुर्जरों को बड़ा झटका

श्रीनगर के कारोबारी संगठनों से जुड़े समूहों ने कहा कि दिनेश्वर शर्मा को अगर अपना मिशन सफल बनाना है तो अलगाववादियों से वार्ता जरूर करनी चाहिए। इस पर शर्मा का कहना है कि वह अपनी ओर से पूरी कोशिश कर रहे हैं। दोबारा आना हुआ तो वह हर्रियत नेताओं से बात करना चाहेंगे।

यह भी पढ़ें: दिल्ली में प्रदूषण को रोकने के लिए फिर लागू हुआ ऑड-ईवन फॉर्मूला

कश्मीर पर केंद्र के विशेष वार्ताकार ने युवाओं के एक समूह से भी बातचीत की। इस मौके पर उन्होंने अपने लिए भी अन्य राज्यों के छात्रों की तरह अधिकार और अवसर मुहैया कराने की मांग की। युवाओं के इस समूह में बातचीत को लेकर उत्साह देखने को मिला।

यह भी पढ़ें: नोएडा ऑनलाइन फ्रॉड केस: अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी की भाई के साथ बढ़ी मुश्किलें

दिनेश्वर शर्मा से मिलने वाले कुछ प्रतिनिधियों ने शासन के अभाव और राज्य में केंद्र की विभिन्न परियोजनाओं का क्रियान्वयन नहीं होने का जिक्र भी किया। मध्य कश्मीर के बडगाम के एक समूह ने एक तहसीलदार की मांग की।

यह भी पढ़ें: सीएम योगी से मिले शिया वक्फ बोर्ड के चैयरमैन रिजवी, अटकलें तेज

घाटी में मुसलमान और हिंदू विस्थापितों के समूहों ने अपनी मासिक राहत राशि बढ़ाने की अपील की। यह समूह जम्मू से श्रीनगर तक का सफर करते हुए यहां पहुंचा था। वहीं, कुछ प्रतिनिधियों ने हैरान करने वाली मांग भी की।

ऐसे प्रतिनिधियों ने कहा कि यहां के टीवी चैनलों पर रोक लगनी चाहिए। इससे घाटी में माहौल खराब हो रहा है। इस वजह से यहां के लोग देश के बाकी हिस्से से अलग-थलग पड़ते जा रहे हैं।

Loading...
Share it
Top