Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अमेरिका के 23 सैटेलाइट लेकर अंतरिक्ष में पहुंचा भारत का PSLV-C43, जानिए और क्या है खास

आंध्र प्रदेश के श्री हरिकोटा में सतीश धवन स्पेस सेंटर से भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने आज हाइपरस्पेक्ट्रल सैटेलाइट लांच किया गया है। पीएसएलवी सी-43 के द्वारा यह सेटेलाइट लांच किया गया है।

अमेरिका के 23 सैटेलाइट लेकर अंतरिक्ष में पहुंचा भारत का PSLV-C43, जानिए और क्या है खास
आंध्र प्रदेश के श्री हरिकोटा में सतीश धवन स्पेस सेंटर से भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने आज हाइपरस्पेक्ट्रल सैटेलाइट लांच किया गया है। पीएसएलवी सी-43 के द्वारा यह सेटेलाइट लांच किया गया है। इसमें अन्य देशों के भी 30 सैटेलाइट छोड़े गए हैं। जिसमें से 23 सैटेलाइट अमेरिका के हैं। इस उड़ान के साथ इसरो ने एक और कामयाबी हासिल की है। पीएसएलवी सी-43 के अंतरिक्ष में पहुंचते ही ISRO ने ट्वीट करके मिशन के कामयाब होने की जानकारी दी। हम आपको बता रहे हैं कि इस उड़ान में आखिर क्या खास है।
  • पीएसएलवी-सी43 रॉकेट के साथ हाइसइस (HYSIS) सैटेलाइट लांच किया गया है।
  • हाइसिस सैटेलाइट का वजन 380 किलो है जबकि अन्य 30 सैटेलाइट का वजन 261.5 किलो है।
  • PSLV-c43 रॉकेट 44 मीटर लंबा और 230 टन वजनी है।
  • इस रॉकेट में तरल के बजाए ठोस ईंधन का इस्तेमाल किया जाता है।
  • यह सैटेलाइट सूर्य की कक्षा में 97.957 डिग्री के झुकाव के साथ स्थापित किया जाएगा।
  • सेटेलाइट की उम्र पांच साल है।
  • हाइपरस्पेक्ट्रल इमेजिंग सैटेलाइट का प्राथमिक लक्ष्य पृथ्वी का अध्ययन करना होगा।
  • PSLV-C43 रॉकेट में 1 माइक्रो सैटेलाइट और एक नैनो सैटेलाइट भेजा गया है।
  • पीएसएलवी-सी43 की मदद से 8 अन्य देशों ने अपने सैटेलाइट को अंतरिक्ष में भेजा है। जिसमें आस्ट्रेलिया, कनाडा, कोलंबिया, फिनलैंड, मलेशिया, नीदरलैंड एवं स्पेन शामिल हैं।
  • इसरो के मुताबिक, रॉकेट लांच होने के 112 मिनट यानी एक घंटे 52 मिनट के बाद मिशन पूरा हो जाएगा।
Loading...
Share it
Top