Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

''गगनयान'' पूरी तरह से स्वदेशी होगा, ISRO बना रहा है खास योजना: के सिवन

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के अध्यक्ष के सिवन ने कहा कि इसरो देश में उपलब्ध सुविधाओं का इस्तेमाल कर अपने महत्वाकांक्षी मानव अभियान ''गगनयान'' को अधिक से अधिक स्वदेशी बनाना चाहता है।

X

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष के सिवन ने यहां गुरुवार को कहा कि संगठन देश में उपलब्ध सुविधाओं का इस्तेमाल कर अपने महत्वाकांक्षी मानव अभियान 'गगनयान' को अधिक से अधिक स्वदेशी बनाना चाहता है।

इसरो के पृथ्वी अवलोकन उपग्रह 'हाइसिस' (हाइपर स्पेक्ट्रल इमेजिंग सैटेलाइट) और 30 अन्य उपग्रहों को सफलतापूर्वक लॉन्च करने के बाद संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए सिवन ने कहा कि अंतरिक्ष एजेंसी को कुछ परीक्षणों के लिए बाहरी मदद लेनी पड़ सकती है।

इसे भी पढ़ें- अमेरिका के 23 सैटेलाइट लेकर अंतरिक्ष में पहुंचा भारत का PSLV-C43, जानिए और क्या है खास

सिवन ने कहा कि हम भारत में उपलब्ध अधिकतम सुविधाओं का इस्तेमाल करना चाहते हैं और हम इसे अधिक से अधिक स्वदेशी बनाना चाहते हैं। इसरो प्रमुख ने कहा कि 2022 तक प्रधानमंत्री (नरेंद्र मोदी) के (अंतरिक्ष में मानव को भेजने के) की परिकल्पना को साकार करने के लिए कुछ परीक्षण के लिए हम विदेश जा सकते हैं। लेकिन अभी हमने यह तय नहीं किया है।

अंतरिक्ष एजेंसी दिसंबर 2020 तक गगनयान परियोजना के तहत पहला मानव रहित कार्यक्रम शुरू करने का लक्ष्य रखा है। अगर गगनयान सफल होता है, तो भारत इस उपलब्धि को हासिल करने वाला चौथा राष्ट्र बन जाएगा। इसरो की भविष्य की योजना के बारे में सिवन ने कहा कि अगले वर्ष के लिए, हमारे पास 12-14 अभियान की योजना है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top