Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पाकिस्तान के 87 फीसदी हिस्से पर पल-पल नजर रख रहा है ISRO

भारत-पाकिस्तान के बीच चल रहे तनाव के बीच भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। इसरो की सैटेलाइट्स से पाकिस्तान के तीन चौथाई से ज्यादा हिस्से पर नजर रखी जा रही है। टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक इसरो के सैटेलाइट्स पाकिस्तान के 87 फीसदी पर एचडी क्वालिटी के कैमरे से नजर रख रही है।

पाकिस्तान के 87 फीसदी हिस्से पर पल-पल नजर रख रहा है ISRO

भारत-पाकिस्तान के बीच चल रहे तनाव के बीच भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। इसरो की सैटेलाइट्स से पाकिस्तान के तीन चौथाई से ज्यादा हिस्से पर नजर रखी जा रही है। टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक इसरो के सैटेलाइट्स पाकिस्तान के 87 फीसदी पर एचडी क्वालिटी के कैमरे से नजर रख रही है।

भारतीय वायुसेना की ओर से पाकिस्तान पर जवाबी कार्रवाई में 26 फरवरी को किए गए एयर स्ट्राइक के प्लानिंग में इसरो के फुटेज से काफी मदद मिली थी।
रिपोर्ट के मुताबिक, भारत के सैटेलाइट्स पाकिस्तान के कुल 8.8 लाख वर्ग किलोमीटर के भूभाग में से 7.7 लाख वर्ग किलोमीटर हिस्से पर नजर रखने में योग्य है। जो भारतीय सेना को 0.65 मीटर की हाईक्वालिटी वाली एचडी फुटेज और तस्वीरे देता है।
इसरो के सैटेलाइट्स पाकिस्तान के अलावा 14 दूसरे देशों पर नजर रख रही है। 14 देशों के 5 लाख वर्ग किलोमीटर हिस्से इसरो अच्छी क्वालिटी में मैप कर सकता है। सिर्फ चीन ही एक ऐसा देश है, जिसको लेकर अभी ये जानकारी नहीं मिल पाती है।
टाइम्स ऑफ इंडिया के सूत्र के मुताबिक, इसरो का यह कवरेज कार्टोसैट सैटेलाइट्स से है। इसरो सेवाएं उपलब्ध कराता है, लेकिन हम इस पर पब्लिकलि कोई कमेंट नहीं कर सकते हैं।'
भारतीय वायुसेना ने इसरो के और भी ऐसे सैटेलाइट्स की मांग की है। इसरो के सवाल पर एक एयर मार्शन ने हाल ही में कहा था- हां, हमें और भी सैटेलाइट्स की जरूरत है। लेकिन अभी भी हम ट्रैक पर हैं। इसरो से हमारी 70 प्रतिशत जरूरतें पूरी हो जाती है।
Share it
Top