Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

GSAT11 के बारे में अगर आपके मन में है कोई सवाल, तो यहां जानिए उसका जवाब

भारतीय स्‍पेस एजेंसी इसरो ने बुधवार सुबह भारत की सबसे भारी सैटेलाइट GSAT11 को लॉन्च कर दिया है। इसके साथ ही भारत ने अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में एक और कदम आगे बढ़ा दिया है। इस सैटेलाइट का वजन 5 हजार 854 किलोग्राम है जो किसी भी भारतीय सैटेलाइट से काफी ज्यादा है ।

GSAT11 के बारे में अगर आपके मन में है कोई सवाल, तो यहां जानिए उसका जवाब

भारतीय स्‍पेस एजेंसी इसरो ने बुधवार सुबह भारत की सबसे भारी सैटेलाइट GSAT11 को लॉन्च कर दिया है। इसके साथ ही भारत ने अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में एक और कदम आगे बढ़ा दिया है। इस सैटेलाइट का वजन 5 हजार 854 किलोग्राम है जो किसी भी भारतीय सैटेलाइट से काफी ज्यादा है । बता दें कि इस सैटेलाइट के सफल परीक्षण के बाद कॉम्युनिकेशन सैटेलाइट से भारत के गांवों में इंटरनेट की स्पीड तेज हो जाएगी। डिजिटल इंडिया के तहत इससे गांवों में नेटवर्क भेजा जाएगा। दक्षिण अमेरिका के फ्रेंच गुयाना में यूरोपियन स्‍पेस सेंटर से जीसैट11 उपग्रह को लॉन्‍च किया है। इस सेटेलाइट को फ्रांस के आरियान 5 रॉकेट की मदद भेजा गया है। लेकिन इस सैटेलाइट के भारी होने का मतलब यह नहीं कि यह कम काम करेगा। बल्कि इसका मतलब है कि यह ज्यादा काम करेगा और कफी तेज काम करेगा। साथ ही अंतरिक्ष में ज्यादा दिनों तक रह सकता है। यह भारत का पहला सैटेलाइट है जिसे लांच के लिए भेजा गया लेकिन डबल चेक करने के लिए वापस मंगा लिया गया। ऐसा इस लिए किया गया क्योंकि जीसैट 6 का मिशन फेल हो गया था। और इसरो इतने बड़े सैटेलाइट के साथ कोई रिस्क नहीं लेना चाहता था। एक सवाल यह भी होगा कि हम दुनिया भर के सैटेलाइट को लांच करते हैं लेकिन खुद के सैटेलाइट के लिए दूसरे देश की मदद लेनी पड़ी। तो ऐसा इस लिए कि हमारे पास सबसे ताकतवर रॉकेट GSLV मार्क 3 है जो 4 टन तक का भार अंतरिक्ष में ले जा सकता है लेकिन जी सैट11 का वजन करीब 6 टन है इस लिए भारत को दूसरे देश की मदद लेनी पड़ी। अब सवाल यह भी उठता है तो कि हम इतना बड़ा रॉकेट क्यों नहीं बना लेते तो इसरो के वैज्ञानिक मजाकिया ढंग से कहते हैं कि हम घर में चलने के लिए ट्रक नहीं रखते लेकिन जब शादी ब्याह का मौका आता है तो हम सामान ढुलाई के लिए ट्रक का इस्तेमाल करते हैं। ट्रक खरीदने से ज्यादा सस्ता हमें किराए पर लेना पड़ता है। मतलब 6 टन शक्ति वाला रॉकेट बनाना ज्यादा महंगा पड़ेगा।

isro, isro heaviest satellite, isro heaviest satellite GSAT-11, GSAT-11, GSAT 11 Facts, GSAT11,GSAT 11 satellite,Kourou French Guiana,GSAT 11 Launch,ISRO Launch Today,Indian Space Research Organisatio, इसरो, जीसैट, जीसैट 11, इसरो जीसैट 11 सैटेलाइट, आरियन 5

Next Story
Share it
Top