Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

इशरत जहां केस की फाइलें गृह मंत्रालय से गायब, एफआइआर दर्ज

गुजरात के चर्चित इशरत जहां मुठभेड़ मामले की जांच के दौरान गायब हुए साक्ष्यों की जांच दिल्ली पुलिस करेगी।

इशरत जहां केस की फाइलें गृह मंत्रालय से गायब, एफआइआर दर्ज
नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस ने गृह मंत्रालय की शिकायत पर इशरत जहां केस में मामले की गायब हुई फाइलों को लेकर अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। गृह मंत्रालय के अंडर सेक्रेटरी वीके उपाघ्याय की तरफ से दिल्ली पुलिस कमिश्नर को 26 अगस्त को दी गई शिकायत में कहा गया कि 15 जून 2004 को गुजरात के अहमदाबाद में 4 लोगों जावेद शेख, जीशान जोहर, अमजद अली और इशरत जहां को पुलिस मुठभेड़ में मार दिया गया था।
इसके बाद इशरत जहां की मां शमीमा कौशर ने गुजरात हाइकोर्ट में याचिका लगाकर इस मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की और ये भी कहा कि केंद्र सरकार की तरफ से उन्हें मुआवजा दिया जाए। केंद्र सरकार की तरफ से इस मामले में पहला एफिडेविट 6 अगस्त को 2009 को दायर किया गया। इसके बाद 29 सितंबर 2009 को केंद्र सरकार की तरफ से एक और एफिडेविट गुजरात हाइकोर्ट में दायर किया गया।
जब इशरत जहां मामले को लेकर मार्च 2016 में मीडिया में बड़े पैमाने पर चर्चा हुई तो इस केस से जुड़ी फाइलों को गृह मंत्रालय में देखना शुरू किया। इस दौरान ये अहम दस्तावेज गायब पाए गए-
18 सितबंर 2009 को गृह सचिव की तरफ से अटॉर्नी जनरल को लिखे गए पत्र की ऑफिस कॉपी और इनक्लोजर

18 सितंबर 2009 को ही गृह सचिव द्वारा अटॉर्नी जनरल को लिखे गए एक दुसरे पत्र की ऑफिस कॉपी

अटॉर्नी जनरल की तरफ से वेरीफाई किया हुआ ड्राफ्ट एफिडेविट 24 सितंबर को 2009 को गृह मंत्री द्वारा संसोधित एफिडेविट की कॉपी
29 सितंबर 2009 को गुजरात हाइकोर्ट में दायर उसी एफिडेविट की ऑफिस कॉपी
गृह मंत्रालय ने इस मामले में 14 मार्च 2016 को अपनी तरफ से एक आंतरिक कमेटी द्वारा दस्तावेजों के गुम होने की जांच करायी। जांच करने वाले अधिकारी ने 15 जून 2016 को अपनी रिपोर्ट सौंप दी। रिपोर्ट में यह कहा गया कि जिन परिस्थितियों में फाइलों से ये दस्तावेज गायब हुए हैं और उनके गायब होने के पीछे के मकसद की जांच होनी चाहिए। इस संबंध में पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ आईपीसी 409 यानि क्रिमिनल ब्रीच ऑफ ट्रस्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है और जांच शुरू कर दी है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top