Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

समलैंगिता अपराध तो सेरोगेसी और टेस्ट ट्यूब क्या प्रकृति के आदेश

क्या है मामला:
गत 11 दिसंबर को सुप्रीम कोर्ट ने समलैंगिता पर अपने फैसले में कहा था कि दो वयस्कों के बीच सहमति से बनाया गया यौन संबंध 19 वीं सदी में बनाये गये कानून भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 377 के तहत एक फौजदारी अपराध ही रहेगा। यह कानून प्रकृति के आदेश के खिलाफ सेक्स पर प्रतिबंध लगाता है।
Next Story