Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

ISRO को लगा बड़ा झटका, नैविगेशन सैटलाइट IRNSS-1H की लॉन्चिंग फेल

इसरो ने पहली बार नेविगशन सैटेलाइट बनाने के लिए निजी कंपनियों को दिया था।

ISRO को लगा बड़ा झटका, नैविगेशन सैटलाइट IRNSS-1H की लॉन्चिंग फेल

इसरो को गुरुवार को बहूत बड़ा झटका लगा है। पहली बार निजी क्षेत्र द्वारा निर्मित नेविगेशन सैटेलाइट आईआरएनएसएस-1एच का आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से लॉन्चिंग फेल हो गया।

1,425 किलोग्राम वजन के सैटलाइट को श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन स्पेस सेंटर के दूसरे लॉन्च पैड से पीएसएलवी-एक्सएल से छोड़ा गया था।
सैटेलाइट के असफल प्रक्षेपण के बाद इसरो के चेयरमैन एएस किरन कुमार ने इसकी जानकारी दी।
उन्होंने कहा कि सैटेलाइट अंदर से तो अलग हो गया था लेकिन चौथे चरण में सैटेलाइट हीट शील्ड से अलग ही नहीं हो सका। साथ ही कहा कि पहले के तीन चरणों तक सैटेलाइट में कोई समस्या नहीं आई।

इसे भी पढ़ें:- राम के तीर थे ISRO के मिसाइल जैसेः सीएम रुपानी

वहीं इसरो चेयरमैन ए एस किरन कुमार ने बताया कि इसकी हम गहन जांच पड़ताल कर रहे हैं।
बता दें कि इसरो ने गुरुवार को शाम 7.0 बजे भारतीय नौवहन उपग्रह प्रणाली 'एनएवीआईसी' के तहत 1,425 किलोग्राम भार वाले इस उपग्रह को लॉन्च किया था।
गौरतलब है कि इसरो ने पहले ही बताया था कि आईआरएनएसएस-1 एच को बनाने में प्राइवेट कंपनियों का 25% योगदान रहा है। बीते तीन दशकों में इसरो के लिए यह पहला मौका है जब उसने नेविगशन सैटेलाइट बनाने का मौका निजी क्षेत्र को दिया था। इस सैटेलाइट को बनाने में 70 इंजीनियरों ने कड़ी मेहनत के बाद तैयार किया था।
Next Story
Top