Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

इराक के जिस शहर में आतंकियों ने मारे 39 भारतीय, ISIS से आजादी के बाद ऐसा है वहां का हाल

इराक के शहर मोसुल को ISIS से आजादी मिले करीब 9 महीने हो गए हैं। मोसुल में ही ISIS के आतंकियों ने 39 भारतीयों को पहले कैद कर लिया था और फिर बाद में उनकी हत्या कर दी थी।

इराक के जिस शहर में आतंकियों ने मारे 39 भारतीय, ISIS से आजादी के बाद ऐसा है वहां का हाल
X

इराक के शहर मोसुल को ISIS से आजादी मिले करीब 9 महीने हो गए हैं। देश के दूसरे सबसे बड़े शहर में जिंदगी वापस धीरे-धीरे पटरी पर आने लगी है। तकरीबन 3 साल तक मोसुल ISIS के आतंकियों के कब्जे में रहा। इन तीन सालों में आतंकियों ने पूरे शहर को तबाह कर दिया।

इरानी सेना ने मोसुल को आतंकियों से आजाद कराने के लिए ऑपरेशन चलाया। लेकिन शहर को आतंकियों के कब्जे से छुड़ाने में 9 महीने लगे। बता दें, मोसुल में ही ISIS के आतंकियों ने 39 भारतीयों को पहले कैद कर लिया था और फिर बाद में उनकी हत्या कर दी थी।

यह भी पढ़ें- इराक में लापता सभी 39 भारतीय की मौत, राज्यसभा में सुषमा स्वराज ने खोला राज

पटरी पर लौटी जिंदगी

  • मोसुल को आतंकियों से आजादी मिलने के बाद यहां धीरे-धीरे जिंदगी फिर पटरी पर लौट रही है। शहर छोड़ जा चुके लोग वापस अपने घर लौट रहे हैं। लोकल बाजारों में वापस से रौनक दिखने लगी है।

  • मोसुल में स्कूल में क्लासेज शुरू हो गई हैं। साथ ही शहर के कैफे में भी रौनक लौट आई है और ये भरे नजर आ रहे हैं।

  • ईस्ट मोसुल में 437 स्कूल दोबारा से खुल गए हैं और 450,000 छात्रों ने स्कूल जाना भी शुरू कर दिया है। वहीं वेस्ट मोसुल में 110 स्कूल खुले हैं और यहां करीब 81000 बच्चे स्कूल जा रहे हैं।

  • UN की रिपोर्ट के अनुसार, मोसुल से छोड़कर जाने वाले 10 लाख लोगों में से करीब सवा तीन लाख लोग अक्टूबर तक अपने घर लौट आए हैं।

  • ग्रैंड के अनुसार, वेस्टर्न मोसुल में शहर का एक बड़ा हिस्सा तबाह हो चुका है और यहां लोगों को लौटने की हरी झंडी नहीं मिली है।

यह भी पढ़ें- CRPF कमांडेंट चेतन चीता ड्यूटी पर लौटे, आतंकियों से मुठभेड़ में लगी थीं 9 गोलियां

ये हैं दिक्कतें

मोसुल में अभी भी जगह-जगह एक्सप्लोसिव दबे/छिपे हैं, जिन्हें ढूढ़ने का काम अभी चल रहा है। इन सब के चलते ही शहर को दोबारा सेटल करना और मुश्किल होता जा रहा है।

यूएन ने मोसुल के बुनियादी ढांचे को दुरुस्त करने लिए रकम का जो शुरुआती अनुमान लगाया है, वो करीब 1 बिलियन डॉलर यानी 65 अरब रुपए है। वहीं ये भी बताया जा रहा है कि इस काम को करने में कई साल का वक्त लग जाएगा।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story