Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Interview: डॉ. हिमांशु द्विवेदी के बेबाक सवाल, सीएम खट्टर ने खोले कई राज

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने बुधवार को जीकरपुर में जनता टीवी के मंच पर चार साल का लेखा-जोखा प्रस्तुत किया। हरिभूमि के प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी के सवालों का जवाब देते हुए उन्होंने प्रदेश की विकास गाथाएं बताई।

Interview: डॉ. हिमांशु द्विवेदी के बेबाक सवाल, सीएम खट्टर ने खोले कई राज
X

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने बुधवार को जीकरपुर में जनता टीवी के मंच पर चार साल का लेखा-जोखा प्रस्तुत किया। हरिभूमि के प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी के सवालों का जवाब देते हुए उन्होंने प्रदेश की विकास गाथाएं बताई।

भ्रष्टाचार 51 प्रतिशत से घटाकर 18 प्रतिशत

पंचकूला चार साल पहले प्रदेश की जनता ने हमें जनादेश दिया उस समय वो मौजूदा सरकार के भ्रष्टाचार, क्षेत्रवाद और भेदभाव जैसी नीतियों की वजह से परेशान थे और हमसे बहुत अपेक्षाएं थी। आज चार साल पूरे होने पर मैं संतोष के साथ यह बात कह सकता हूं कि पिछले चार साल में न केवल हम भ्रष्टाचार को 51 प्रतिशत से घटाकर 18 प्रतिशत तक लेकर आए हैं बल्कि चार सालों में हमने आठ साल का काम किया है।

बिजली के दाम 4:50 से 2:50 रुपए यूनिट

हमारी सरकार हमेशा घाटे में रहने निगमों को फायदों में लेकर आई बल्कि पहली बार प्रदेश में बिजली के दाम भी साढ़े चार रुपये यूनिट से कम कर ढाई रुपए तक लेकर आए। पढ़ी लिखी पंचायतों हमने देश में पहली बार बनाकर दिखाई।

लिंगानुपात का सबसे बड़ा खुलासा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान में कंधे से कंधा मिलाकर हम लिंगानुपात को 837 से बढ़ाकर 931 किया है। कुछ काम तो पहली बार हुए हैं। यह बात मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बुधवार को जीकरपुर में जनता टीवी के मंच पर चार साल का लेखा जोखा प्रस्तुत करते हुए कही।

बचे हुए एक साल में करेंगे ये काम

हरिभूमि के प्रधान संपादक हिमांशु द्विवेदी के सवालों के जवाब देते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि अब एक साल बचा है और हम जनता के बीच अपने कामों को लेकर जाएंगे। आज देश व प्रदेश में विपक्ष बिखरा हुआ है तो हमारी जिम्मेदारी भी बढ़ जाती है। आज कांग्रेस में मुख्यमंत्री के पता नहीं कितने दावेदार हैं वहीं इनेलो में तो मुख्यमंत्री के नारे लग रहे हैं। ये पूरा भानमति का कुनबा है, जिससे कोई उम्मीद नहीं है। जो अपना घर ही नहीं संभाल पा रहे हैं वो क्या सरकार संभाल पाएंगे।

किसानों को सर्वाधिक मुआवजा

किसानों के सवाल पर उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने किसान का जोखिम कम किया है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में जो कवर नहीं हो पाए उनके लिए भावांतर भरपाई योजना लेकर आए हैं। हमारी सरकार ने किसानों को सर्वाधिक मुआवजा दिया है।

हरियाणा के विकास का रोडमैप

उन्होंने कहा कि आज प्रदेश की सडकों बिल्कुल दुरुस्त हैं। हमने 11 नए नेशनल हाईवे बनाए हैं। 15 के बारे में विचार चल रहा है। ब्यूरोक्रेसी के सवाल पर उन्होंने कहा अफसर केवल उसका होता है जिसकी सरकार होती है। बाकी सरकारों में दबंगई होती थी लेकिन हमने अफसरों को साथ लेकर हरियाणा के विकास का रोडमैप बनाया और उसके परिणाम सुखद आ रहे हैं।

तबादलों और नौकरी

तबादलों के सवाल पर कहा कि अधिकारी भी चाहते हैं कि एक साल बाद उनका तबादला हो ताकि दूसरे विभाग का अनुभव उन्हें मिल सके। नौकरी के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि ये सच है कि सरकार सभी को नौकरी नहीं दे सकती है लेकिन इस सरकार को ये फायदा हुआ कि पिछले सरकारें चालीस हजार नियुक्तियां खाली रखकर गई हैं और हम उनको भरने के साथ ही आज के समय की जरूरत के हिसाब से चालीस हजार नियुक्तियां कर रहे हैं।

स्किल डवलेपमेंट

90 हजार नौकरियों का लक्ष्य है। बीस हजार निुयक्त हो चुके हैं, पंद्रह हजार का मामला कोर्ट से निपटते ही पूरा कर दिया जाएगा। 15 हजार नौकरियों की परीक्षाएं होने वाली हैं और अठारह हजार का प्रोसेस चल रहा है विज्ञापन निकाला जा चुका है। ग्रुप डी की नौकरी सीधे ही टेस्ट क्लीयर करते ही दी जाएंगी। इसके साथ ही सभी को रोजगार के मकसद से स्किल डवलेपमेंट के लिए यूनिवर्सिटी शुरू की जा रही हैं जिसमें 800 प्रकार के कोर्स होंगे और लोग अपने रोजगार विकसित कर पाएंगे।

मुख्यमंत्री का दावेदार

भाजपा में कई मुख्यमंत्री के दावेदार होने की बात पर कहा कि ये विचारधारा की पार्टी है यहां पद देखकर काम नहीं किए जा सकते हैं लेकिन मैं तो चाहूंगा कि भाजपा के 90 हलकों के सभी प्रत्याशी खुद को मुख्यमंत्री का दावेदार ही समझकर जनता के बीच में जाएं।

हर आंदोलन-परिस्थिति से समझदारी से निपटे

कानून व्यवस्था और जाट आरक्षण के सवाल पर कहा कि हमने ये फैसला लिया था कि थाने में जाने वाले हर इंसान की एफआईआर दर्ज हो उस पर कोई शंका नहीं होनी चाहिए। इसके बाद जांच होगी। इसी के साथ ही सरकार ने हर आंदोलन व परिस्थिति से बड़ी समझदारी से निपटा है चाहे व जाट आरक्षण आंदोलन हो या रामपाल या रामरहीम प्रकरण।

ये पिछले सरकारों के समय से चले आ रहे लंबे मुद्दे हैं लेकिन हमने इन पर भी काम किया है। जिसका नुकसान भी हुआ उसकी तुरंत भरपाई की और कार्रवाई भी की गई है। इसके अलावा उन्होंने एक दर्शक के सवाल के जवाब में कहा कि बिजली बोर्ड में शिफ्ट एटेंडेंट की भर्ती कोर्ट में है और वहां से क्लीयर होते ही तुरंत पूरी की जाएगी।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story