Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अब दुनिया में कोरोना की खैर नहीं, WHO ने दी इन दो वैक्सीन को मंजूरी

भारत में कोरोना वैक्सीन को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मंजूरी दे दी है। आपको बता दें कि WHO ने फाइजर और बायोएनटेक की वैक्सीन को मंजूरी मिली है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इमरजेंसी यूज के लिए इसकी इजाजत दी है।

अब दुनिया में कोरोना की खैर नहीं, WHO ने दी इन दो वैक्सीन को मंजूरी
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

भारत में कोरोना वैक्सीन को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मंजूरी दे दी है। आपको बता दें कि WHO ने फाइजर और बायोएनटेक की वैक्सीन को मंजूरी मिली है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इमरजेंसी यूज के लिए इसकी इजाजत दी है। WHO ने कहा कि हम सभी देशों से इस वैक्सीन के लाभ के बारे में बात करेंगे। वहीं, भारत में आज ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन को मंजूरी मिल सकती है। इसके लिए आज अधिकारियों की बैठक होनी है।

आपको बता दें कि अब दुनियाभर के देशों में फाइजर की कोरोना वैक्सीन के इस्तेमाल का रास्ता खुल गया है। WHO ने गरीब देशों तक कोरोना वैक्सीन को जल्द से जल्द पहुंचाने के लिए इमरजेंसी यूज लिस्टिंग प्रॉसेस को भी शुरू कर दिया है। इस सूची में शामिल होने के बाद किसी भी कोरोना वैक्सीन को दुनियाभर के देशों में आसानी से आपात इस्तेमाल की मंजूरी मिल जाएगी।

UN की स्वास्थ्य एजेंसी ने फाइजर वैक्सीन की समीक्षा के बाद कहा कि इससे सुरक्षा और प्रभावकारिता के लिए अवश्य ही मानदंड मिलना चाहिए। फाइजर-बायोएनटेक वैक्सीन को अमेरिका, ब्रिटेन, यूरोपीय संघ और एक दर्जन अन्य देशों में पहले ही मंजूरी मिल चुकी है।

फाइजर की कोरोना वैक्सीन को सबसे पहले ब्रिटेन ने इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दी थी। इसके बाद अमेरिका ने भी इस वैक्सीन को अपनी इजाजत दे दी। हालांकि, अमेरिका में फाइजर की वैक्सीन लगाने के कुछ ही दिन बाद एक नर्स के कोरोना पॉजिटिव होने की घटना सामने आई थी। 45 साल के पुरुष नर्स ने बताया कि उन्हें 18 दिसंबर को कोरोना वैक्सीन लगाई गई थी। छह दिन के बाद उनमें कोरोना के लक्षण सामने आ गए।

एक्सपर्ट्स ने इसपर कहा था कि वैक्सीन लगाए जाने के कुछ दिन बाद कोरोना पॉजिटिव होने की घटना अप्रत्याशित नहीं है। अमेरिका के सैन डियागो के संक्रामक रोग विशेषज्ञ क्रिस्टियन रैमर्स ने बताया कि वैक्सीन ट्रायल से यह पता चल चुका है कि खुराक लेने के 10 से 14 दिनों के बाद ही व्यक्ति में इम्यूनिटी तैयार होती है। वहीं, पूरी सुरक्षा के लिए दूसरी खुराक भी लेनी होती है।

Next Story