Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

यूएस एफडीए ने 12-15 साल के बच्चों में फाइजर-बायोनटेक वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल को मंजूरी दी

यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में इसे एक अहम फैसला बताते हुए इसकी मंजूरी दी है।

यूएस एफडीए ने 12-15 साल के बच्चों में फाइजर-बायोनटेक वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल को मंजूरी दी
X

अमेरिका: यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) ने फाइजर-बायोनटेक की कोरोना वैक्सीन को 12-15 साल के बच्चों में इमरजेंसी इस्तेमाल की इजाजत दे दी है। यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में इसे एक अहम फैसला बताते हुए इसकी मंजूरी दी है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, एफडीए आयुक्त जेनेट वुडकॉक ने कहा कि आज की कार्रवाई यंगर आबादी को कोविड-19 से बचाने की अनुमति देती है, जो हमें सामान्य स्थिति की ओर लौटने और महामारी को समाप्त करने के करीब लाती है।

माता-पिता और अभिभावक यह आश्वासन दे सकते हैं कि एजेंसी ने सभी उपलब्ध आंकड़ों की कठोर और गहन समीक्षा की है, जैसा कि हमने अपने सभी कोविड-19 वैक्सीन आपातकालीन उपयोग प्राधिकरणों के साथ किया है। एफडीए ने निर्धारित किया है कि फाइजर-बायोनटेक कोविड-19 वैक्सीन ने ईयूए में संशोधन करने के लिए वैधानिक मानदंडों को पूरा किया है।

एफडीए के अनुसार, फाइजर टीका सुरक्षित है और युवा किशोरों के लिए मजबूत सुरक्षा प्रदान करता है। 12 से 15 वर्ष की आयु के 2,000 से अधिक अमेरिकी स्वयंसेवकों पर परीक्षण किए जाने के बाद यह घोषित किया गया था। अध्ययन के परिणामों ने निष्कर्ष निकाला कि कोविड-19 का कोई भी मामला पूरी तरह से टीकाकृत किशोरों में नहीं पाया गया था, क्योंकि बच्चों को डमी शॉट्स दिए गए थे।

इसके अतिरिक्त, शोधकर्ताओं ने यह भी पाया कि टीकाकरण वाले बच्चों ने युवा वयस्कों पर पहले के अध्ययनों की तुलना में वायरस से लड़ने वाले एंटीबॉडी के उच्च स्तर का विकास किया। खबरों से मिली जानकारी के मुताबिक हालांकि, किशोरों में साइड इफेक्ट वयस्कों में उन लोगों के समान थे। जिसमें टीकाकरण के बाद गले में दर्द और फ्लू जैसे बुखार, ठंड लगना या दर्द जैसे दुष्प्रभाव पाए गए।

Next Story