Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

भारत-चीन सीमा विवाद सुलझाने में सक्षम, तीसरे की जरूरत नहीं: व्लादिमीर पुतिन

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन का ये बयान ऐसे समय आया है जबकि 1 साल से भी ज्यादा से सीमा पर भारत-चीन के बीच टकराव की स्थिति बनी हुई है।

भारत-चीन सीमा विवाद सुलझाने में सक्षम, तीसरे की जरूरत नहीं: व्लादिमीर पुतिन
X

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने आज भारत और चीन के बीच चल रहे सीमा विवाद सुलझाने को लेकर बड़ी बयान दिया है। साथ ही कहा कि दोनों देश विवाद को सुलझाने में सक्षम हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन का कहना है कि भारत और चीन सीमा विवाद को सुलझाने में पीएम नरेंद्र मोदी और शी जिनपिंग सक्षम हैं। दोनों देशों के बीच किसी तीसरे की दखद को खारिज करते हुए उन्होंने कहा कि द्विपक्षीय मुद्दों में किसी तीसरी क्षेत्रीय ताकत को दखल नहीं देना चाहिए।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन का ये बयान ऐसे समय आया है जबकि 1 साल से भी ज्यादा से सीमा पर भारत-चीन के बीच टकराव की स्थिति बनी हुई है। गलवान घाटी में दोनों देशों के सैनिकों के बीच खूनी संघर्ष भी हो चुका है। बता दें कि भारत-चीन के बीच टकराव को खत्म करने और यथास्थिति में लौटने के लिए कई दौर की बातचीत भी हो चुकी है, लेकिन अभी तक कोई हल नहीं निकल पाया है।

क्वाड गठबंधन क्या कहा

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, रूस के राष्ट्रपति ने भारत, जापान, अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया के बीच बने 'क्वाड' गठबंधन को लेकर कहा कि रूस किसी भी राष्ट्र के किसी पहल में शामिल होने का आकलन नहीं कर सकता है। लेकिन किसी साझेदारी का लक्ष्य किसी के खिलाफ नहीं होना चाहिए।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि एक साल पहले यानी साल 2020 में 15 और 16 जून की रात को पूर्वी लद्दाख के पास एलएसी पर भारत और चीनी सैनिकों के बीच जमकर हिंसा हुई थी। हिंसा के दौरान गोलीबारी नहीं बल्कि ईंट पत्थर और नुकिले चीजों से हमला किया गया था। इस हिंसा में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे। जबकि चीन ने कहा था कि उसके सिर्फ 4 जवान मारे गए हैं।

Next Story