Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पाकिस्तान ने भारत के 55 मछुआरों और 5 आम नागरिकों को किया रिहा

पाकिस्तान ने पुलवामा आतंकी हमले के बाद दोनों देशों में तनाव के बीच सोमवार को 'सद्भावना' के तौर पर भारत के 55 मछुआरों और पांच आम नागरिकों को रिहा कर दिया। एक्सप्रेस ट्रिब्यून के अनुसार भारतीय मछुआरों और आम नागरिकों को कराची की मालिर जेल से रिहा कर दिया गया।

पाकिस्तान ने भारत के 55 मछुआरों और 5 आम नागरिकों को किया रिहा

पाकिस्तान ने पुलवामा आतंकी हमले के बाद दोनों देशों में तनाव के बीच सोमवार को 'सद्भावना' के तौर पर भारत के 55 मछुआरों और पांच आम नागरिकों को रिहा कर दिया। एक्सप्रेस ट्रिब्यून के अनुसार भारतीय मछुआरों और आम नागरिकों को कराची की मालिर जेल से रिहा कर दिया गया।

रिपोर्ट में कहा गया कि रिहा किए गए बंदियों को भारी सुरक्षा में कराची छावनी रेलवे स्टेशन ले जाया गया जहां से वे लाहौर के लिए बिजनेस एक्सप्रेस में बैठे।

इसमें कहा गया कि भारत के साथ तनाव के बीच पाकिस्तान ने सद्भावना के तौर पर 355 मछुआरों और पांच आम नागरिकों सहित 360 भारतीयों को अप्रैल में रिहा करने की घोषणा की थी।

पाकिस्तान ने 55 मछुआरों को अपने जलक्षेत्र में मछली पकड़ने के आरोप में तथा पांच अन्य भारतीयों को अवैध रूप से सीमा पार करने के आरोप में गिरफ्तार किया था।

रिहा करने के बाद इन सभी को ट्रेन के जरिए लाहौर ले जाया गया जहां उन्हें वाघा सीमा पर भारतीय अधिकारियों को सौंपे जाने की उम्मीद है। पाकिस्तान ने सात अप्रैल को भी 100 भारतीय मछुआरों को रिहा किया था। इसके बाद 14 अप्रैल को अन्य 100 मछुआरों को रिहा किया था।

पाकिस्तान के ईधी फाउंडेशन के अनुसार उसने मछुआरों को पांच हजार रुपये दिए और उन्हें विशेष बसों के जरिए वाघा सीमा ले जाया जाएगा। रिपोर्ट में कहा गया कि दोनों देशों द्वारा जनवरी में आदान-प्रदान की गई सूचियों के अनुसार भारतीय जेलों में 347 पाकिस्तानी कैदी हैं।

पाकिस्तान ने मछुआरों की रिहाई का कदम ऐसे समय उठाया है जब 14 फरवरी को हुए पुलवामा आतंकी हमले के बाद से दोनों देशों के बीच तनाव चरम पर है। पुलवामा में आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद के आत्मघाती हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे।

इसके बाद भारत ने पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में बालाकोट स्थित जैश ए मोहम्मद के सबसे बड़े आतंकी शिविर को निशाना बनाया था।

Next Story
Top