Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सिर्फ 85 मिनट के लिए कमला हैरिस ने संभाली राष्ट्रपति बाइडेन की पावर, बनीं पहली अमेरिकी महिला, जानें क्या है एनेस्थीसिया?

सिर्फ 85 मिनट के लिए राष्ट्रपति की शक्तियां संभालने वाली कमला हैरिस पहली अमेरिकी महिला बन गई हैं।

सिर्फ 85 मिनट के लिए कमला हैरिस ने संभाली राष्ट्रपति बाइडेन की पावर, बनीं पहली अमेरिकी महिला, जानें क्या है एनेस्थीसिया?
X

अमेरिका (USA) की पहली महिला उप-राष्ट्रपति कमला हैरिस (Kamala Harris) ने शुक्रवार को सिर्फ एक घंटे 25 मिनट के लिए राष्ट्रपति की शक्तियां मिल गई है। सिर्फ 85 मिनट के लिए राष्ट्रपति की शक्तियां संभालने वाली वह पहली अमेरिकी महिला बन गई हैं। कमला हैरिस को ये संक्षिप्त कार्यकाल दिया गया है, बाइडेन (Jo Biden) ने अपने हेल्थ चेकअप के दौरान कोलोनोकॉपी टेस्ट करवाया था।

व्हाइट हाउस की प्रेस रिलीज के अनुसार, कांग्रेस को शक्तियों के अस्थायी हस्तांतरण की घोषणा करने वाले पत्र सुबह 10 बजे भेजा गया। जिसमें बताया गया कि राष्ट्रपति ने सुबह 11:35 बजे अपने कामकाज फिर से शुरू कर दिया है। जेन साकी ने बताया कि कोरोनोकॉपी टेस्ट के दौरान राष्ट्रपति कुछ देर के लिए बेहोश हो गए, जिसकी वजह से उपराष्ट्रपति को उनकी शक्तियां दी गई। जिसकी अवधि 85 मिनट की थी। साकी ने कहा कि इस तरह की घटनाएं पहले भी हो चुकी है। साल 2002 और 2007 में अस्थायी शक्तियां दी जा चुकी है। यही प्रक्रिया पूर्व में राष्ट्रपति जॉर्ज बुश ने भी अपनाई थी।

ओकॉनर ने अपने पत्र में लिखा है कि यूएस प्रेजिडेंट में किसी तरह की कोई स्वास्थ्य समस्या नहीं दिखी है, जैसे हार्ट फेल, दांत की समस्या, स्कीन कैंसर, आंखों की समस्या इसमें से कोई भी परेशानी नहीं दिखी है। पत्र में आगे कहा गया कि 79 साल के जो बाइडेन अमेरिकी के इतिहास में सबसे उम्रदराज राष्ट्रपति हैं, जो 3 सामान्य दवाएं, दो ओवर द काउंटर की दवा और कॉन्टैक्ट लेंस पहनते हैं।

जानें क्या है एनेस्थीसिया क्या है?

सीधे और साफ शब्दों में कहें तो कोई भी डॉक्टर सर्जरी से पहले किसी को भी एनस्थीसिया देकर सर्जरी शुरू कर सकता है। इसमें मरीज की सर्जरी, कोई मेडिकल प्रोसेस, जिसके तहत मरीज को बेहोश किया जाए, उसे एनेस्थीसिया कहते हैं। एनेस्थीसिया गैस या वाष्प के रूप में मरीज को इंजेक्शन के जरिए दी जाती है या फिर मरीज को सर्जरी से पहले सुंघाया जाता है। इसका असर होते ही मरीज बेहोश हो जाता है और होश में आने तक एनेस्थीसियोलॉजिस्ट की निगरानीं रहता है। जब राष्ट्रपति किसी स्वास्थ्य बीमारी के चलते अस्वस्थ हो जाते हैं तो उनकी शक्ति उप राष्ट्रपति के पास अस्थायी रूप से दे दी जाती हैं। हर देश में कानून अलग अलग हैं, क्योंकि किसी देश में प्रधानमंत्री या फिर राष्ट्रपति के पास देश चलाने की शक्तियां होती हैं।

Next Story