Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

भारत ने पाकिस्तान को यूएन में लगाई लताड़, कहा- पीएम इमरान लादेन को बताते हैं शहीद

ए अमरनाथ ने पाकिस्तानी प्रतिनिधि से कहा कि आप यहां शांति और सुरक्षा की बात कर रहे हैं। लेकिन आपके पीएम इमरान खान (Pm Imran Khan) ओसामा बिन लादेन (Osama bin Laden) जैसे वैश्विक आतंकवादी (global terrorists) को शहीदों के रूप में महिमा मंडित करते हैं।

भारत ने पाकिस्तान को यूएन में लगाई लताड़, कहा- पीएम इमरान लादेन को बताते हैं शहीद
X

भारत (India) ने एक बार फिर संयुक्त राष्ट्र (United Nations) में पाकिस्तान (Pakistan) को जमकर लताड़ लगाई है। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी मिशन के काउंसलर ए अमरनाथ (A Amarnath) ने राइट टू रिप्लाई (right to reply) अधिकार का इस्तेमाल करते हुए पाकिस्तान (Pak) को दो टूक जवाब दिया है। ए अमरनाथ ने पाकिस्तानी प्रतिनिधि से कहा कि आप यहां शांति और सुरक्षा की बात कर रहे हैं। लेकिन आपके पीएम इमरान खान (Pm Imran Khan) ओसामा बिन लादेन (Osama bin Laden) जैसे वैश्विक आतंकवादी (global terrorists) को शहीदों के रूप में महिमा मंडित करते हैं।

भारत (India) की पहली समिति निरस्त्रीकरण और अंतराष्ट्रीय सुरक्षा मुद्दों (International Security Issues) पर जेनरल डिबेट (Debate) में ए अमरनाथ ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र के सिद्धांतों (UN Principles) की परवाह किए बिना वैश्विक आतंकवाद के केंद्र के रूप में पाकिस्तान बार-बार अपने पड़ोसियों के खिलाफ बॉर्डर पार आतंकवाद (Pakistan's) में शामिल रहा है। पाकिस्तान बहुपक्षीय मंचों पर झूठ फैलाने (Spread Lies) की कोशिश सामूहिक अवमानना (Contempt) का पात्र है।

गौरतलब है कि भारत इससे पहले भी पड़ोसी देश पाकिस्तान को आईना दिखा चुना है। यूएन में भारत की प्रथम सचिव स्नेहा दुबे (First Secretary of India Sneha Dubey) ने पाकिस्तान को करारा जवाब देते हुए कहा था कि पाकिस्तान (Pak) में आम लोगों और अल्पसंख्यकों (minorities) पर बर्बरता जारी है, लेकिन वे भारत (India) के खिलाफ गलत बयान दे रहे हैं। इस तरह से भ्रम फैलाने वाले देश (Country) की सामूहिक तौर पर निंदा (Condemnation) की जानी चाहिए।

ऐसे लोग अपनी मानसिकता के कारण सहानुभूति के पात्र हैं। हम सुनते आ रहे हैं कि पाकिस्तान आतंकवाद का शिकार है। लेकिन यह वह देश है जिसने खुद आग लगाई है। पाकिस्तान आतंकियों को इस उम्मीद में पालता है कि वे पड़ोसी देशों को नुकसान पहुंचाएंगे। इससे पूरे विश्व को नुकसान हुआ है।

और पढ़ें
Next Story