Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पाकिस्तान में फिर हिंदू परिवार पर ढहाया गया जुल्म, मस्जिद से पानी लेने पर मारपीट कर बनाया बंधक, इमरान के सांसद ने ...

इस मामले में पुलिस ने मामला दर्ज नहीं किया क्योंकि हमलावर, प्रधानमंत्री इमरान खान की सत्तारूढ़ पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) पार्टी के एक स्थानीय सांसद से जुड़े हैं। बता दें कि पाकिस्तान में हिंदू सबसे बड़ा अल्पसंख्यक समुदाय है। आधिकारिक अनुमान के मुताबिक पाकिस्तान में 75 लाख हिंदू रहते हैं। समुदाय के अनुसार देश में 90 लाख से अधिक हिंदू रह रहे हैं।

पाकिस्तान में फिर हिंदू परिवार पर बढ़ा जुल्म- मस्जिद से पानी लेने पर मारपीट कर बनाया गया बंधक, इमरान के सांसद ने साधी चुप्पी
X

पाकिस्तान में फिर हिंदू परिवार पर बढ़ा जुल्म

Pakistan News पाकिस्तान में अल्पसंख्यक हिंदू परिवारों (Hindu Familes) पर जुल्म कम नहीं हो रहा। कभी वहां के मंदिरों को तोड़ा जाता है तो कभी हिंदू परिवारों के घरों पर पत्थर फेंकने की घटना सामने आती है। इस बीच, पाकिस्तान के पंजाब प्रांत (Punjab Province) से एक बार फिर से हिंदू परिवारों को निशाना बनाया गया है। यहां के एक मस्जिद (Mosque) से पीने का पानी लेने (Taking Water) के कारण एक गरीब हिंदू किसान परिवार मुश्किल में पड़ गया। इसकी वजह कुछ लोगों द्वारा धार्मिक स्थल की 'पवित्रता का उल्लंघन' करने का गुनहगार ठहराकर उसे प्रताड़ित कर बंधक (Beating And Hostage) बना लिया गया। इस मामले में पुलिस (Pakistan Police) ने मामला दर्ज नहीं किया क्योंकि हमलावर, प्रधानमंत्री इमरान खान की सत्तारूढ़ पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) पार्टी के एक स्थानीय सांसद से जुड़े हैं। बता दें कि पाकिस्तान में हिंदू सबसे बड़ा अल्पसंख्यक समुदाय है। आधिकारिक अनुमान के मुताबिक, पाकिस्तान में 75 लाख हिंदू रहते हैं।

पाक मीडिया के मुताबिक, पंजाब के रहीमयार खान शहर के रहने वाले आलम राम भील अपनी पत्नी समेत परिवार के अन्य सदस्यों के साथ एक खेत में कपास उठाने का काम कर रहे थे। भील ने कहा कि जब परिवार एक नल से पानी लेने के लिए पास की एक मस्जिद के बाहर गया तो कुछ स्थानीय जमींदारों ने उन्हें पीटना शुरू कर दिया। इतना ही नहीं घर लौटते समय उनके परिवार को बंधक बना लिया गया। और मस्जिद की 'पवित्रता का उल्लंघन' करने के लिए उन्हें प्रताड़ित किया गया। इस मामले को देखते हुए वकील ने शिकायतकर्ता परिवार को मुफ्त कानूनी सहायता का वादा किया है।

वहीं इस संबंध में भील ने समुदाय के सदस्य पीटर जॉन भील के साथ थाने के बाहर धरना दिया। जिला शांति समिति के सदस्य पीटर ने कहा कि उन्होंने सत्तारूढ़ पीटीआई के विधायक जावेद वारियाच से संपर्क किया, जिन्होंने शुक्रवार को मामला दर्ज कराने में उनकी मदद की। पीटर ने जिला शांति समिति के अन्य सदस्यों से इस मुद्दे पर एक आपात बैठक बुलाने का अनुरोध किया लेकिन उन्होंने मामले को गंभीरता से नहीं लिया। पीटीआई के दक्षिण पंजाब अल्पसंख्यक विंग के महासचिव युधिष्ठिर चौहान ने कहा कि घटना उनके संज्ञान में आई है, लेकिन सत्तारूढ़ पार्टी के सांसद के प्रभाव के कारण उन्होंने हस्तक्षेप नहीं किया। वहीं मीडिया रिपोर्टस के अनुसार, पुलिस ने कहा कि वह मामले पर गौर कर रहे हैं। वह कोई भी कार्रवाई करने से पहले सोमवार को हिंदू समुदाय के बुजुर्गों से मिलेंगे। 'निष्क्रिय' शांति समिति के बारे में पूछे जाने पर अधिकारी ने दावा किया कि यह पूरी तरह से काम कर रही है।

और पढ़ें
Next Story