Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

वैश्विक वैक्सीनेशन अभियान को बड़ा झटका- एस्ट्राजेनेका कोरोना वैक्सीन का इस्तेमाल जर्मनी, इटली और फ्रांस ने भी रोका, जानें कारण

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) और दवाओं पर नजर रखने यूरोपीय वाली संस्था ने एस्ट्राज़ेनेका कोरोना वैक्सीन को सुरक्षित बताया है।

वैश्विक वैक्सीनेशन अभियान को बड़ा झटका- एस्ट्राजेनेका कोरोना वैक्सीन का इस्तेमाल जर्मनी, इटली और फ्रांस ने भी रोका, जानें कारण
X

दुनियाभर में कोरोना वायरस से बचाव के लिए लोगों को कोरोना वैक्सीन की डोज दी जा रही है। भारत के साथ अन्य दोशों में भी वैक्सीनेशन का कार्य तेजी से किया जा रहा है ताकि कोरोना वायरस को पूरी तरह से हराया जा सके।

लेकिन इसी बीच एस्ट्राज़ेनेका कोरोना वैक्सीन (AstraZeneca Corona Vaccine) को लेकर बड़ी खबर सामने आई है। एस्ट्राज़ेनेका कोरोना वैक्सीन के इस्तेमाल पर जर्मनी, इटली और फ्रांस रोक लगा दी है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) और दवाओं पर नजर रखने यूरोपीय वाली संस्था ने एस्ट्राज़ेनेका कोरोना वैक्सीन को सुरक्षित बताया है। लेकिन इसके बाद भी यूरोपीय यूनियन के सबसे बड़े देशों ने खून के थक्के जमने की आशंका के चलते कई अन्य देशों की तरह एस्ट्राज़ेनेका वैक्सीन का इस्तेमाल बंद कर दिया है। अब इस संबंध में डब्ल्यूएचओ और यूरोपीय संस्था इस सप्ताह विशेष बैठक करेंगी।

ऐसा बताया जा रहा है कि एस्ट्राज़ेनेका कोरोना वैक्सीन का इस तरह से इस्तेमाल बंद किया जाना वैश्विक वैक्सीनेशन अभियान को बड़ा झटका है। विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना वायरस महामारी की वजह से विश्वभर में 26 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है। इस महामारी पर जीत हासिल करने के लिए वैक्सीनेश बहुत ही आवश्यक है।

रोक लगाने वाले यूरोपीय यूनियन बड़े देश

बता दें कि एस्ट्राज़ेनेका कोरोना वैक्सीन के इस्तेमान पर जर्मनी, इटली और फ्रांस रोक लगाई है। ये तीनों देश यूरोपीय यूनियन के सबसे बड़े देश हैं। स्पेन, पुर्तगाल, स्लोवानिया और लातविया ने भी वैक्सीन के इस्तेमाल पर रोक लगा दी है। इनके अलावा एस्ट्राज़ेनेका कोरोना वैक्सीन के इस्तेमाल को इंडोनेशिया ने भी टालने की बात कही है। जबकि यह वैक्सीन अन्य वैक्सीनों के मुकाबले सस्ती है।

डब्ल्यूएचओ ने क्या कहा

जानकारी के अनुसार, विश्व स्वास्थ्य संगठन की चीफ विज्ञानी सौम्या स्वामीनाथन का कहना है कि हम नहीं चाहते कि लोग घबराहट का शिकार हों। हम कहना चाहते हैं कि सभी देश एस्ट्राज़ेनेका कोरोना वैक्सीन का इस्तेमाल करते रहें।

खून के थक्के जमने की शिकायतों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि अब तक, हमें इन घटनाओं और करोना वैक्सीन के बीच कोई संबंध दिखाई नहीं पड़ा है। आप वैक्सीन का इस्तेमाल करते रहें।

Next Story