Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Coronavirus: अमेरिकी अखबार वाशिंगटन पोस्ट ने किया दावा, भारत छुपा रहा कोरोना से हुई मौतों की संख्या

Coronavirus: वाशिंगटन पोस्ट ने लिखा है कि जब भारत के चार बड़े शहरों से मार्च और जून के बीच हुई मौतों का आंकड़ा मांगा गया, तो सिर्फ मुंबई ने ही सही आंकड़ा उपलब्ध करवाया।

Coronavirus: अमेरिकी अखबार वाशिंगटन पोस्ट ने किया दावा, भारत छुपा रहा कोरोना से हुई मौतों का आंकड़ा
X
Coronavirus: अमेरिकी अखबार वाशिंगटन पोस्ट ने किया दावा, भारत छुपा रहा कोरोना से हुई मौतों का आंकड़ा

Coronavirus: अमेरिकी अखबार वाशिंगटन पोस्ट ने दावा किया है कि भारत कोरोना से हुई मौतों का आंकड़ा छुपा रहा है। वाशिंगटन पोस्ट ने लिखा है कि जब भारत के चार बड़े शहरों से मार्च और जून के बीच हुई मौतों का आंकड़ा मांगा गया, तो सिर्फ मुंबई ने ही सही आंकड़ा उपलब्ध करवाया। वाशिंगटन पोस्ट ने ये भी लिखा कि कोलकाता ने तो कोई आंकड़ा दिया ही नहीं।

भारत अन्य देशों से कैसे कर रहा बेहतर

वाशिंगटन पोस्ट ने लिखा है कि भारत सरकार का कहना है कि वो बाकी देशों की तुलना में कोरोना से बेहतर तरीके से लड़ रहा है। लेकिन भारत की एक बड़ी जनसंख्या गांवों और छोटे शहरों में रहती है। इन स्थानों पर स्वास्थ्य सुविधाएं बड़े शहरों की तुलना में ज्यादा अच्छी नहीं है।

वाशिंगटन पोस्ट ने लिखा कि भारत में कई मौतें रिपोर्ट ही नहीं की जाती है। इसके अलावा भारत ने कहा है कि देश में कोरोना से कम मौत होने का कारण टीबी वैक्सीन और भारतीय लोगों में मौजूद इम्यूनिटी है। जबकि अमेरिकी एक्सपर्ट का मानना है कि इस थ्योरी का कोई प्रमाण अभी तक नहीं मिला है।

भारत के आंकड़े 'एक रहस्य'

वाशिंगटन पोस्ट ने कहा है कि विकसित देशों में भी कोरोना से हुई मौतों के सही आंकड़ें नहीं मिल पा रहे हैं। ऐसे में भारत में सही आंकड़ें मिलना वाकई में एक 'रहस्य' जैसे दिखाई पड़ रहा है। अखबार ने लिखा है कि जब तक किसी भी देश में सही आंकड़े न मिले, तब तक कोरोना से लड़ना आसान नहीं हो पाएगा।

मुंबई में हुई मौतें

अखबार ने लिखा कि मुंबई में पिछले साल मई में 6832 लोगों की मौत हुई थी। वहीं इस साल मई में 12,963 मौतें हुई। अखबार ने लिखा कि इस साल मुंबई में 6131 अतिरिक्त लोगों की मौतें हुई। जबकि सिर्फ 2269 मौतों को कोरोना से हुई मौतों की लिस्ट में जोड़ा गया है।

सामान्य दिनों में मौतें नहीं होती रिपोर्ट

पब्लिक हेल्थ फाउंडेशन ऑफ इंडिया के प्रेसिडेंट के. श्रीनाथ रेड्डी ने कहा है कि भारत में नॉर्मल दिनों में 20 प्रतिशत मौतों को रिपोर्ट नहीं किया जाता है। ऐसे में माना जा सकता है कि कोरोना से हुई मौतें ऑफिशियल आंकड़ों से अधिक ही होंगी।

Next Story
Top