Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Coronavirus: 55 हजार बेड के साथ तैयार रूस, यहां भी लगातार बढ़ रहे हैं केस

Coronavirus : इटली में शनिवार को 800 मौत हुई, अब रूस का दल इटली जाकर इस वायरस संबंधी चुनौती से निपटने में कितनी उपलब्धि हासिल करता है ये तो समय ही बताएगा, लेकिन रूस का यह कदम उनकी सतर्कता को बताता है।

रूस के प्रधानमंत्री दमित्री ने राष्ट्रपति पुतिन को सौंपा इस्तीफा
X
प्रधानमंत्री दमित्री मेदवेदेव

Coronavirus : कोरोना वायरस को लेकर पूरे भारत में इस समय अलर्ट जारी हो चुका है, कोरोना वायरस को कंट्रोल करने के लिए राजधानी दिल्ली समेत कई प्रदेशों की सरकारों ने लॉकडाउन करने का फैसला लिया है। भारत में पिछले 2 दिनों से कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या बहुत तेजी से बढ़ी है, जिसने चिंता और बढ़ा दी है।

अभी तक चीन के बाद कोरोना वायरस अमेरिका, लंदन और इटली में बड़ी संख्या में लोगों की जान ले चुका है, भारत इस कड़ी में पीछे हैं लेकिन अभी लोगों ने एतिहात नहीं बरती तो इसका परिणाम गंभीर हो सकता है, हालांकि भारत सरकार और प्रदेश सरकार हर संभव प्रयास कर रही है लेकिन इसमें सबसे बड़ी भागीदारी देश के लोगों को निभानी है और निर्देशों का पालन करना है। भारत के साथ अब एक और बड़ा देश कोरोना वायरस से निपटने की तैयारी शुरू कर चुका है, क्योंकि इस देश में भी कोरोना वायरस के केस तेजी से सामने आ रहे हैं।

रूस में भी कोरोना की दस्तक

रूस में पिछले 24 घंटो में 61 नए कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आने से वहां की सरकार भी सतर्क हो गई है। खबर लिखे जाने तक रूस में कोरोना पॉजिटिव के कुल 367 मामलें सामने आ चुके हैं।

हालांकि रूस ने कोरोना वायरस से लड़ने और इसे काबू पाने के लिए एतिहातन कदम उठाने शुरू कर दिए हैं। रूस के ऑफिसियल अकाउंट से बताया गया कि उन्होंने आइसोलेशन वार्ड में 55 हजार बेड तैयार किए हैं, साथ ही 20 हजार इंटेंसिव कार यूनिट्स भी बनाए हैं।

इटली जाएगा रूस का वायरस विशेषज्ञ दल

रूस ने कोरोना वायरस को लेकर अपने एक वायरस विशेषज्ञ दल को इटली भी भेजा है, वहीं इस तरह के और कई अन्य दल भी इटली भेजे जाएंगे। इटली में कोरोना वायरस ने चीन से भी ज्यादा नुकसान पहुंचाया है, इटली में इस वायरस से अब तक 4000 से अधिक लोगों की जान जा चुकी है।

इटली में शनिवार को 800 मौत हुई, अब रूस का दल इटली जाकर इस वायरस संबंधी चुनौती से निपटने में कितनी उपलब्धि हासिल करता है ये तो समय ही बताएगा, लेकिन रूस का यह कदम उनकी सतर्कता को बताता है।

Next Story