Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

चीन ने भारत पर दबाव बनाने के लिए चली नई चाल, पाकिस्तान ने PoK में रेल प्रोजेक्ट को दी मंजूरी

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पीओके में बिछने वाली रेलवे लाइन चीन की महात्वाकांक्षी योजना चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे का हिस्सा है। लेकिन अभी तक इस बात की कोई पुष्टि नहीं हुई है कि यह रेलवे लाइन की लंबाई कितनी होगी। चीन के एक अखबार में छपी रिपोर्ट की माने तो बीते दिनों चीन ने इस्लामाबाद से शिजियांग प्रांत के काश्गर तक बनने वाली सड़क के एक हिस्से को आम जनता के लिए खोल दिया था।

चीन ने भारत पर दबाव बनाने के लिए चली नई चाल, पाकिस्तान ने PoK में रेल प्रोजेक्ट को दी मंजूरी
X
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान- फाइल फोटो

वर्तमान समय में भारत और चीन के बीच सीमा को लेकर तनाव चल रहा है। ऐसे में चीन ने पाकिस्तान के साथ मिलकर एक नई चाल चली है। पाकिस्तान, चीन के साथ मिलकर भारत पर भारत पर दबाव बनाने के लिए कई तरह के हथकंड़े अपना रहा है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) में एक रेल लाइन बिछाने के लिए लगभग 21 हजार करोड़ रुपये के बजट को मंजूरी दी है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पीओके में बिछने वाली रेलवे लाइन चीन की महात्वाकांक्षी योजना चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे का हिस्सा है। लेकिन अभी तक इस बात की कोई पुष्टि नहीं हुई है कि यह रेलवे लाइन की लंबाई कितनी होगी। चीन के एक अखबार में छपी रिपोर्ट की माने तो बीते दिनों चीन ने इस्लामाबाद से शिजियांग प्रांत के काश्गर तक बनने वाली सड़क के एक हिस्से को आम जनता के लिए खोल दिया था। यह सड़क पाकिस्तान में 188 किमी तक बनी हुई है। इस सड़क का एक छोर थाकोट और दूसरा छोर हवेलियन में बसा हुआ है।

जानकारों ने माना है कि पाकिस्तान के द्वारा पीओके में रेल लाइन बिछाने की योजना का मकसद भारत पर दबाव बनाने का काम करेगी। हालांकि, पाकिस्तान की इमरान सरकार ने बीते दिनों जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने को लेकर विरोध जताया था। साथ ही पीएम इमरान खान ने अपने देश का नया नक्शा भी पेश किया था। इस नक्शे में पाकिस्तान ने लद्दाख, जम्मू-कश्मीर के सियाचिन समेत गुजरात के जूनागढ़ और सर क्रीक पर अपना दावा किया था। वहीं, पाकिस्तान के इस दावे को भारत ने पूरी तरह से खारिज कर दिया था। एक रिपोर्ट के मुताबिक चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे में चीन के अरबों पैसे लग चुके हैं और अब चीन सुरक्षा खतरे और लागत बढ़ने पर चिंतित है।

और पढ़ें
Next Story