Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बांग्लादेश में कट्टरपंथियों के हौसले बुलंद, दुर्गा पूजा से पहले मंदिरों पर बढ़े हमले

बांग्लादेश में बारीसाल के मेहंदीगंज उपजिला स्थित काशीपुर सरबजनीन दुर्गा मंदिर (Kashipur Sarbajanin Durga Mandir) में कट्टरपंथियों (fundamentalists) ने मूर्तियों में तोड़फोड़ (मूर्तियों में तोड़फोड़) की।

बांग्लादेश में कट्टरपंथियों के हौसले बुलंद, दुर्गा पूजा से पहले मंदिरों पर बढ़े हमले
X

बांग्लादेश (Bangladesh) में एक बार फिर हिंदुओं को निशाना बनाया जा रहा है। खबर है कि बारीसाल के मेहंदीगंज उपजिला स्थित काशीपुर सरबजनीन दुर्गा मंदिर (Kashipur Sarbajanin Durga Mandir) में कट्टरपंथियों (fundamentalists) ने मूर्तियों में तोड़फोड़ (मूर्तियों में तोड़फोड़) की। जिसके बाद इलाके में तनाव बढ़ गया हैं। घटना रविवार तड़के की है। मेहदीगंज पुलिस के ओसी शफीकुल इस्लाम (OC Shafikul Islam) ने कहा कि घटना का पता तब चला जब स्थानीय लोग सुबह दर्शन के लिए मंदिर पहुंचे।

पुलिस ने कहा कि घटना रात (शनिवार-रविवार के बीच) में हुई, क्योंकि लोग वहां 2 बजे तक मौजूद थे। ओसी शफीकुल ने कहा, "मंदिर में कोई सीसीटीवी कैमरा (CCTV Cameras) नहीं है और हमने मंदिर प्रबंधन से जल्द से जल्द कैमरा लगाने को कहा है।" पुलिस के अधिकारी ने कहा पुलिस मामले की आगे जांच की में जुटी हुई हैं. आरोपियों की गिफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही हैं। गौरतलब हैं कि बांग्लादेश में दुर्गा पूजा से पहले इस्लामिक कट्टरपंथियों की सांप्रदायिक हिंसा फैलाने की साजिशें बढ़ती जा रही हैं।

बारीसाल के मेहंदीगंज में मां दुर्गा की मूर्तियों के साथ तोड़फोड़ का ये पांचवा मामला हैं। इससे पहले पिछले कुछ दिनों में ऐसे ही चार मामले सामने आये थे। वही काशीपुर सरबजनीन दुर्गा मंदिर में हुई घटना के बाद मेहंदीगंज पूजा उज्जैन परिषद के नेताओं ने घटना की कड़ी निंदा की और उपद्रवियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग की हैं। मेहदीगंज यूएनओ (Sub-District Nirbahi Officer-Middle Level Officer) नुरुन्नबी ने घटनास्थल का दौरा किया और मंदिर को पूजा के योग्य बनाने के लिए इसे बहाल करने का आदेश दिया।

बरिसाल रेंज के डिप्टी आईजी ने बताया कि आगामी दुर्गा पूजा के लिए अब तक 1,682 मूर्तियां गढ़ी जा चुकी हैं। पूजा पंडालों में सीसीटीवी कैमरे लगाने के आदेश दिए गए हैं। बता दें बांग्लादेश में पिछले साल यानी 13-17 अक्टूबर 2021 तक दुर्गा उत्सव के दौरान भारी सांप्रदायिक हिंसा (communal violence) हुई थी। इसको देखते इस बार बांग्लादेश सरकार ने पुलिस को सोशल मीडिया (social media) पर कड़ी निगरानी रखने के सख्त आदेश दिए हैं। लेकिन इस्लामी कट्टरपंथियों (fanatics) के हौसले कम नहीं हो रहे हैं। दुर्गा पूजा से पहले यह पांचवां हमला है। इससे पहले 11 सितंबर को इस्लामवादियों ने कुश्तिया में मां दुर्गा की मूर्तियों में तोड़फोड़ की थी।

और पढ़ें
Next Story