Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बिगड़ते जा रहे इन्‍फोसिस के अंदरूनी हालात, नारायण मूर्ति की वापसी के बाद 8वां इस्‍तीफा

इंफोसिस के डायरेक्टर वी बालाकृष्णन ने इस्‍तीफा दे दिया है।

बिगड़ते जा रहे इन्‍फोसिस के अंदरूनी हालात, नारायण मूर्ति की वापसी के बाद 8वां इस्‍तीफा
X
बेंगलुरू. नारायण मूर्ति की वापसी के बाद इंफोसिस के बड़े अफसरों के छोड़ने का सिलसिला जारी है। इंफोसिस के डायरेक्टर वी बालाकृष्णन ने इस्‍तीफा दे दिया है। नारायण मूर्ति के साथ इंफोसिस को खड़ा करने में उनकी अहम भूमिका थी। 1991 में इंफोसिस में पारी शुरू करने वाले बालाकृष्णन इंफोसिस में बीपीओ डिविजन और लोडस्टोन के हेड समेत बोर्ड मेंबर भी हैं। वह इंफोसिस के सीएफओ भी रह चुके हैं। नारायण मूर्ति की वापसी के बाद इंफोसिस में ये 8वां बड़ा इस्तीफा है।
31 दिसंबर को वी बालाकृष्णन का इंफोसिस में आखिरी दिन होगा। इंफोसिस में वी बालाकृष्णन की जगह यू बी प्रवीण राव को डायरेक्टर नियुक्त किया गया है। वहीं बीजी श्रीनिवास लोडस्टोन के चेयरमैन होंगे। इंफोसिस में किरण मजूमदार शॉ को इंडिपेंडेंट डायरेक्टर नियुक्त किया गया है। क्रिस गोपालकृष्णन इंफोसिस के बीपीओ कारोबार के अंतरिम हेड होंगे।
वी बालाकृष्णन ने अपने इस्तीफे पर कहा कि आंत्रप्रेन्योरशिप में हाथ आजमाने के लिए उन्होंने कंपनी छोड़ने का फैसला किया। साथ ही उन्होंने कहा कि उनके इस्तीफे से कंपनी पर असर नहीं पड़ेगा क्योंकि इंफोसिस की लीडरशिप काफी मजबूत है।
वी बालाकृष्णन के इस्तीफे के बाद कॉरपोरेट इंडिया की प्रतिक्रियाएं भी आने लगी हैं। बायोकॉन की चेयरपर्सन और एमडी किरण मजूमदार शॉ का कहना है कि नारायणमूर्ति की कोशिश होगी कि सीनियर कंपनी न छोड़ें, लेकिन सीनियर मैनेजमेंट के जाने की और कई वजहें होंगी। उम्मीद है कि इंफोसिस जैसी कंपनी फिर से अच्छी वापस करेगी।
मणिपाल यूनिवर्सल के चेयरमैन मोहनदास पई का कहना है कि बालाकृष्णन का इस्तीफा इंफोसिस के लिए काफी चिंताजनक है। इंफोसिस को इस मुकाम तक पहुंचाने में वी बालाकृष्णन का बड़ा योगदान रहा और वो भारत के सबसे अच्छे सीएफओ में से एक हैं।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, कौन है वो आठ लोग जिन्होंने दिए इस्तीफे

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story