Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

2018 तक हो जाएगी भारत-पाक सीमा सील, तब नहीं आ पाएंगे ये

बॉर्डर सील करने के फैसले के बाद आतंकी घुसपैठ पर लगेगी लगाम

2018 तक हो जाएगी भारत-पाक सीमा सील, तब नहीं आ पाएंगे ये
नई दिल्ली. केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह का कहना है कि अगले 2 साल में यानी दिसंबर 2018 तक भारत-पाकिस्तान की सीमा को पूरी तरह से सील कर दिया जाएगा। गृह मंत्री ने कहा कि इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए जो ऐक्शन प्लान तैयार किया गया है वो पूरी तरह से समयबद्ध है यानी इसके लिए एक समय सीमा निर्धारित की गई है।

गृह मंत्री ने यह कहा कि बॉर्डर सिक्यॉरिटी ग्रिड नाम से एक नई अवधारणा बनाई जा रही है जिसमें पाकिस्तान की सीमा से लगे चारों राज्यों जम्मू कश्मीर, पंजाब, राजस्थान और गुजरात इन सभी का सहयोग लिया जाएगा। ये राज्य इस ग्रिड को अपने इनपुट देंगे, जिसके हिसाब से जरूरी कदम उठाए जाएंगे। गृह मंत्री ने यह भी कहा कि बॉर्डर सिक्यॉरिटी फोर्स जो शिकायतें सामने दर्ज कराएंगे, राज्यों को उन पर तुरंत कार्रवाई करनी होगी। गृह मंत्री ने आगे कहा कि मौजूदा समय में भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ गया है इसलिए हमें एकजुट होकर अपनी सेना पर भरोसा करना चाहिए क्योंकि देश की सुरक्षा से किसी भी कीमत पर समझौता नहीं होगा।

एनबीटी की रिपोर्ट के मुताबिक, दरअसल, एलओसी पर भारत की सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान के साथ जारी तनाव के बीच अंतरराष्ट्रीय सीमा से सटे राजस्थान, पंजाब, जम्मू कश्मीर और गुजरात के सीमा क्षेत्र में सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा करने के लिए केंद्रीय गृह मंत्री दो दिन के दौरे पर जैसलमेर पहुंचे थे।

इस बैठक में चारों राज्यों के मुख्यमंत्रियों और गृहमंत्रियों को हिस्सा लेना था। लेकिन बैठक में राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया के अलावा, पंजाब के उप मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल और गुजरात के गृहमंत्री प्रदीप मौजूद थे। जम्मू-कश्मीर की सीएम महबूबा मुफ्ती और गुजरात के सीएम नहीं पहुंचे। इसके अलावा, बैठक में चारों राज्यों के डीजीपी, होम सेक्रेटरी, चीफ सेक्रेटरी के अलावा बीएसएफ के अधिकारी भी मौजूद थे।

भारत और पाकिस्तान के बीच की सीमा करीब 3 हजार 323 किलोमीटर लंबी है जिसमें से 1 हजार 225 किलोमीटर हिस्सा जम्मू कश्मीर में, 553 किलोमीटर पंजाब में, 1 037 किलोमीटर राजस्थान में और 508 किलोमीटर गुजरात में पड़ती है। लिहाजा अब बॉर्डर सील करने के फैसले के बाद सीमा पार से होने वाली आतंकी घुसपैठ पर तो लगाम लगेगी ही साथ ही ड्रग्स और जाली नोट की तस्करी पर भी रोक लग पाएगी।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top