Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

समंदर के सिकंदर: दहल जाएगा पाकिस्तान, चीखेगा चीन

नौसेना के 10 से ज्यादा जंगी युद्धपोतों, विमानवाहक युद्धपोत आईएनएस विक्रमादित्य, तीन पनडुब्बियों और कई नौसैन्य विमानों ने एकसाथ भाग लिया और समुद्र में अपने युद्ध-कौशल के जौहर का प्रचंड प्रदर्शन किया।

समंदर के सिकंदर: दहल जाएगा पाकिस्तान, चीखेगा चीन

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने देश के पश्चिमी तट पर नौसेना की युद्धक तैयारियों का विस्तार से जायजा लिया। इसमें सबसे अहम और आकर्षक रहा विमानवाहक युद्धपोत आईएनएस विक्रमादित्य पर बल के रात्रि अभियान का निरीक्षण करना।

जिसके बाद उन्होंने बल की पश्चिमी कमांड की युद्धक तैयारियों की प्रशंसा करते हुए नौसेना पर विश्वास जताते हुए कहा कि वह दुश्मन की किसी भी चुनौती का मुकाबला करने के लिए पूरी तरह से तैयार है। विक्रमादित्य पर भ्रमण के बाद सीतारमण ने युद्धपोत पर तैनात नाविकों से बातचीत कर उनकी प्रतिक्रिया भी ली।

इसे भी पढ़ें: वन नाइट स्टैंड: एक रात के लाखों कमाती है ये लड़की, इंटरनेशनल प्लेयर्स के साथ हैं संबंध!

दो दिन चला अभियान

नौसेना द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक रक्षा मंत्री आठ और नौ जनवरी को इस दो दिवसीय अभियान का हिस्सा बनीं। जिसमें नौसेना के 10 से ज्यादा जंगी युद्धपोतों, विमानवाहक युद्धपोत आईएनएस विक्रमादित्य, तीन पनडुब्बियों और कई नौसैन्य विमानों ने एकसाथ भाग लिया और समुद्र में अपने युद्ध-कौशल के जौहर का प्रचंड प्रदर्शन किया।

कोलकात्ता श्रेणी के जंगी युद्धपोत आईएनएस कोलकात्ता की मदद से रक्षा मंत्री आठ जनवरी को विमानवाहक युद्धपोत विक्रमादित्य तक पहुंची। यहां उन्हें बीच समुद्र में देश की सजग निगेहबानी में लगे विमानवाहक युद्धपोत पर सवार होकर वास्तविक सैन्य अभियान का प्रत्यक्ष साक्षात्कार करने का मौका मिला।

इसे भी पढ़ें: Video: यात्री ने प्लेन में खाया वियाग्रा, एयरपोर्ट पर मचाया हंगामा- जानिए फिर क्या हुआ

अपनी यात्रा के दौरान उन्होंने विक्रमादित्य के रात्रि अभियान के अलावा बल के विमानों के हवाई अभियान, युद्धपोतों द्वारा मिसाइल, बंदूक और रॉकेट फायरिंग की गतिविधियों का जायजा लेने और नौसेना के लड़ाकू विमानों की रात्रि उड़ान, एंटी सबमरीन अभियान समेत समुद्र में दो जहाजों के बीच समन्वय का स्पष्ट प्रदर्शन देखने भी देखने को मिला।

9 जनवरी को सीतारमण की यात्रा का समापन नौसैन्य हेलिकॉप्टर की मदद से हुआ। जिसमें सवार होकर उन्होंने बल के नौसैन्यअड्डे आईएनएस हंसा के लिए उड़ान भरी। नौसेना के इस अभ्यास के बाद चीन और पाकिस्तान में खलबली मच गई है।

Next Story
Share it
Top