Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

इक्विटी और सोने को लेकर उलझन में भारतीय निवेशक

इस वर्ष के अंत तक सोने के 30 हजार से नीचे आने के आसार नहीं है।

इक्विटी और सोने को लेकर उलझन में भारतीय निवेशक
नई दिल्ली. भारतीय निवेशक इन दिनों शेयर बाजार और सोने में निवेश को लेकर उलझन में फंस गए है। वर्तमान में शेयर बाजार में तेजी को देखते हुए सोने से निवेश निकलकर इक्विटी में जा सकता है। विश्लेषकों और बाजार भागीदारों का मानना है कि शेयर बाजार में प्रॉफिट बुकिंग शुरू होते ही लोग सोने पर टुट पड़ेंगे। सोने का वर्तमान आधार काफी मजबूत बना हुआ है और आने वाले चार महीनों में इसका दाम 30 हजार रुपए प्रति 10 ग्राम से नीचे आने के आसार नहीं है।
भारतीय इक्विटी बाजार में इस साल फरवरी से शुरू बुल मार्केट में निफ्टी 6825 के लो लेवल से बढ़कर अगस्त में 8728 अंक के उच्च स्तर पर पहुंच गया। इससे वे निवेशक भी बाजार की तरफ आकर्षित हुए जिन्होंने 2008 के दौरान हुए तेज उतार-चढ़ाव के बाद भी उसकी तरफ रुख नहीं किया था। दूसरी तरफ सोने ने इस साल जोरदार तरीके से वापसी की है। साल के शुरूआत में 1060 डॉलर प्रति औंस पर ट्रेड कर रहा सोना अब 1320 डॉलर प्रति औंस के आसपास चल रहा है।
अब तक एक चौथाई बढ़ चुका सोना
सोने का भाव साल की शुरूआत से अब तक लगभग एक चौथाई चढ़ चुका है। इसके बावजूद दूसरे तिमाही में कुल निवेश मांग 12 प्रतिशत घटकर 33.1 टन रही जो पिछले वित्त वर्ष के दूसरे तिमाही में 37.7 टन थी। मूल्य के मामले में सोने में निवेश की मांग 8,980 करोड़ रुपए रही जो पिछले वित्त वर्ष के दूसरे तिमाही के 9,170 करोड़ रुपये से 2.1 प्रतिशत कम है।
19 अगस्त के बाद से सोने में कमजोरी का रुझान है और मंगलवार को यह और आधा प्रतिशत गिर गया। बाजार के जानकारों ने कहा, अमेरिका में नॉन फार्म रोजगार के डेटा शुक्रवार को आएंगे। सोने के भाव पर उसका भी असर होगा।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top