Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

सरकार ने राफेल के लिए फ्रांस को चुकाई 25 फीसदी रकम

लड़ाकू विमान राफेल खरीदी पर केंद्र सरकार दृढ़प्रतिज्ञ है। कांग्रेस के लाख विरोधों के बावजूद मोदी सरकार राफेल डील पर आगे बढ़ गई है। विवादों और डील में घोटाला होने के विपक्ष के आरोपों के बीच सरकार ने 36 लड़ाकू विमानों की खरीद के लिए 25 फीसदी रकम फ्रांस को दे चुका है।

सरकार ने राफेल के लिए फ्रांस को चुकाई 25 फीसदी रकम

लड़ाकू विमान राफेल खरीदी पर केंद्र सरकार दृढ़प्रतिज्ञ है। कांग्रेस के लाख विरोधों के बावजूद मोदी सरकार राफेल डील पर आगे बढ़ गई है। विवादों और डील में घोटाला होने के विपक्ष के आरोपों के बीच सरकार ने 36 लड़ाकू विमानों की खरीद के लिए 25 फीसदी रकम फ्रांस को दे चुका है। यह डील 59 हजार करोड़ रुपए की मानी जा रही है।

वायुसेना के सूत्रों के अनुसार सितंबर 2016 की डील के मुताबिक वायुसेना को भारत की जरूरतों के मुताबिक 36 तैयार राफेल विमान मिलने हैं। डील के नियम-शर्तों के मुताबिक एक चौथाई रकम फ्रांस सरकार को चुकाई जा चुकी है।

सरकार चाहती है कि तय शेड्यूल के मुताबिक सितंबर 2019 में राफेल लड़ाकू विमान की डिलीवरी भारत को मिल जाए। उम्मीद है कि इसके बाद 2020 के मध्य तक भारत को चार राफेल विमानों का पहला जत्था भी मिल जाएगा।

सभी याचिकाएं खारिज कर चुका है शीर्ष कोर्ट
सुप्रीम कोर्ट ने अदालत की निगरानी में राफेल डील की जांच की मांग से जुड़ी सभी याचिकाएं 14 दिसंबर को खारिज कर दी थीं। कोर्ट ने कहा था कि राफेल विमान खरीद की प्रक्रिया में शक की कोई गुंजाइश नहीं है। इसमें कारोबारी पक्षपात होने जैसी कोई बात सामने नहीं आई है।
74 बैठकों के बाद सरकार ने फैसला लिया था
सरकार ने कोर्ट को बताया था कि राफेल विमान खरीदने का फैसला सालभर में 74 बैठकों के बाद किया गया। 126 राफेल खरीदने के लिए जनवरी 2012 में ही फ्रांस की दैसो एविएशन को चुन लिया गया था। लेकिन, दैसो और हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) के बीच आपसी सहमति नहीं बन पाने से ये सौदा आगे नहीं बढ़ पाया। एचएएल को राफेल बनाने के लिए दैसो से 2.7 गुना ज्यादा वक्त चाहिए था।
Share it
Top