Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पाकिस्तान से रिश्तों में सुधार के लिए भारत ने की पहल, द्विपक्षीय वार्ता के लिए प्रतिनिधी दल पहुंचा इस्लमाबाद

पाकिस्तानी संगठनों द्वारा भारत में बड़ी संख्या में आतंकी हमलों के बाद दोनों देशों के रिश्तों में आई ठंडक के बीच भारतीय विशेषज्ञों का एक समूह द्विपक्षीय संबंधों के सभी पहलुओं पर चर्चा करने और ट्रैक 2 की कूटनीति प्रक्रिया को बहाल करने के लिए पाकिस्तान गया था।

पाकिस्तान से रिश्तों में सुधार के लिए भारत ने की पहल, द्विपक्षीय वार्ता के लिए प्रतिनिधी दल पहुंचा इस्लमाबाद

पाकिस्तानी संगठनों द्वारा भारत में बड़ी संख्या में आतंकी हमलों के बाद दोनों देशों के रिश्तों में आई ठंडक के बीच भारतीय विशेषज्ञों का एक समूह द्विपक्षीय संबंधों के सभी पहलुओं पर चर्चा करने और ट्रैक 2 की कूटनीति प्रक्रिया को बहाल करने के लिए पाकिस्तान गया था।

यहां कूटनीतिक सूत्रों ने बताया कि मूल ट्रैक 2 पहल ‘नीमराणा संवाद' को इस दौरे के साथ नयी शुरूआत मिली। भारतीय पक्ष की अगुवाई पूर्व विदेश सचिव विवेक काटजू ने की जिसमें उनके साथ प्रख्यात शिक्षाविद् जे एस राजपूत और अन्य विशेषज्ञ शामिल रहे वहीं पाकिस्तानी पक्ष का नेतृत्व पूर्व विदेश सचिव इनामुल हक ने किया।

सूत्रों ने कहा कि दोनों पक्षों के बीच इस्लामाबाद में 28 से 30 अप्रैल के बीच संवाद हुआ। एक सूत्र के मुताबिक दोनों पक्षों ने द्विपक्षीय संबंधों के सभी पहलुओं पर चर्चा की और इस बात पर सहमत हो गये कि दोनों देशों के बीच सभी मुद्दे बातचीत के जरिये सुलझाये जाने चाहिए।

पाकिस्तान की ओर से शामिल विशेषज्ञों में स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान के गर्वनर इशरत हुसैन थे जिनका नाम जुलाई में संभावित आम चुनाव के दौरान पाकिस्तान के कार्यवाहक प्रधानमंत्री के उम्मीदवार के तौर पर मीडिया में चल रहा है।

ये भी पढ़ेःहिमाचल प्रदेश के इस गांव में लगी भीषण आग, पांच घर जलकर हुए खाक

ट्रैक 2 की वार्ता को पूरी तरह गुप्त रखा गया और आयोजकों ने इस बारे में आधिकारिक रूप से कुछ भी साझा नहीं किया। 1990 के दशक की शुरूआत में नीमराणा संवाद की शुरूआत हुई थी।

साल 2016 में पाकिस्तान के संगठनों द्वारा किये गये आतंकी हमलों और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में भारत के लक्षित हमलों के बाद दोनों देशों के बीच रिश्तों में तनाव पैदा हो गया था। (इनपुट भाषा)

Next Story
Top