Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

यस बैंक से निकाल सकते हैं 5 लाख तक की रकम, आरबीआई ने रखी ये शर्त

गुरुवार को यस बैंक पर कार्रवाई के बाद निकासी के रकम की एक सीमा तय कर दी गई। जिसके अनुसार सिर्फ 50 हजार की ही रकम एक महीने में निकाली जा सकती है। लेकिन अब आरबीआई ने ग्राहकों को इस मामले में राहत दी है।

यस बैंक से निकाल सकते हैं अब 5 लाख तक की रकम, आरबीआई ने रखी ये शर्तयस बैंक से निकाल सकते हैं अब 5 लाख तक की रकम, आरबीआई ने रखी ये शर्त

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने हाल ही में यस बैंक के ग्राहकों के लिए सूचना जारी की है। जिसमें कहा गया है कि ग्राहक अपने खाते से एक महीने में 50 हजार तक की ही रकम निकाल सकते हैं। लेकिन यस बैंक के ग्राहकों को राहत देते हुए आरबीआई ने ऐलान किया है कि ग्राहक अपने खाते से 5 लाख तक की रकम निकाल सकते हैं।

ये है मामला

यस बैंक के द्वारा एक महीने की निकासी की लिमिट को 50 हजार तय करने के बाद ग्राहकों के बीच हड़कंप मच गया। लोग परेशान होने लगे कि अगर ऐसा हुआ तो हमारे पैसे बैंक में फंस जाएंगे। साथ ही अगर कोई इमरजेंसी आ गई, तो उस स्थिति में हम क्या कर सकते हैं? इस प्रश्न नें लोगों के रातों की नींद उड़ा दी।

लेकिन इमरजेंसी की स्थिति में अब लोगों को घबराने की जरुरत नहीं हैं। आरबीआई ने यस बैंक के ग्राहकों की परेशानी को कम करते हुए ऐलान किया है कि अब वो इमरजेंसी की स्थिति में 5 लाख तक की रकम अपने खाते से निकाल सकते हैं। इन इमरजेंसी में मेडिकल इमरजेंसी, शादी और एजुकेशन की फीस जैसे मामले शामिल हो सकते हैं। लेकिन आरबीआई ने शर्त रखी है कि इन मामलों के लिए ग्राहकों को ठोस सबूत भी दिखाने पड़ेंगे।

ऑनलाइन ट्रांजैक्शन में भी राहत

गुरुवार को ऑनलाइन ट्रांजैक्शन में समस्या आने के कारण ग्राहकों की परेशानी यह भी थी कि अब वो 50 हजार से अधिक का ऑनलाइन ट्रांजैक्शन भी नहीं कर पाएंगे। लेकिन आरबीआई ने ऑनलाइन ट्रांजैक्शन के मामलों के लिए कोई नई सूचना जारी नहीं की है। जिसका मतलब है कि यस बैंक के ग्राहक पहले की तरह ही ऑनलाइन ट्रांजैक्शन कर पाएंगे।

क्यों की गई कार्रवाई

आरबीआई ने यस बैंक के ग्राहकों के लिए 50 हजार रुपये निकासी की सीमा तय की है। यानी ग्राहक एक महीने में अपने खाते से सिर्फ 50 हजार रुपये ही निकाल सकता है। रिपोर्ट के अनुसार भारतीय रिजर्व बैंक ने ये कार्रवाई यस बैंक की आर्थिक हालत को देखते हुए की है। यस बैंक पर कर्ज बढ़ता जा रहा है और इसके शेयर भी टूट रहे हैं। बीते कुछ दिनों से यस बैंक फंड जुटाने के लिए कोशिश कर रहा है। 15 महीने के भीतर बैंक के निवेशकों को 90 प्रतिशत से अधिक का नुकसान भी हुआ है। इससे पहले खबर आई थी कि सरकार ने देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक एसबीआई को यस बैंक में हिस्‍सेदारी खरीदने के लिए कहा है।

Next Story
Top