Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

World Water Day: पीएम मोदी ने की 'जल शक्ति अभियान' की शुरुआत, बोले- अटल जी का सपना हुआ साकार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आगे कहा कि प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना हो या हर खेत को पानी अभियान, ‘Per Drop More Crop’ अभियान हो या नमामि गंगे मिशन, जल जीवन मिशन हो या अटल भूजल योजना, सभी पर तेजी से काम हो रहा है।

World Water Day: पीएम मोदी ने की जल शक्ति अभियान की शुरुआत, बोले- अटल जी का सपना हुआ साकार
X

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। 

विश्व जल दिवस (World Water Day 2021) : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने (Prime Minister Narendra Modi) आज विश्व जल दिवस (World Water Day) के मौके पर 'जल शक्ति अभियान' की शुरुआत की है। पीएम मोदी ने इस मौके पर अपने संबोधन में कहा कि मुझे खुशी है कि जलशक्ति के प्रति जागरूकता बढ़ रही है और प्रयास भी बढ़ रहे हैं। आज पूरी दुनिया जल के महत्व को उजागर करने के लिए अंतरराष्ट्रीय जल दिवस मना रही है। आज भारत में पानी की समस्या के समाधान के लिए 'कैच द रैन' की शुरुआत के साथ ही केन बेतवा लिंक नहर के लिए भी बहुत बड़ा कदम उठाया गया है।

अटल जी ने उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के लाखों परिवारों के हित में जो सपना देखा था, उसे साकार करने के लिए ये समझौता अहम है। आज जब हम जब तेज़ विकास के लिए प्रयास कर रहे हैं, तो ये Water Security के बिना, प्रभावी Water Management के बिना संभव ही नहीं है। भारत के विकास का विजन, भारत की आत्मनिर्भरता का विजन, हमारे जल स्रोतों पर निर्भर है, हमारी Water Connectivity पर निर्भर है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आगे कहा कि प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना हो या हर खेत को पानी अभियान, 'Per Drop More Crop' अभियान हो या नमामि गंगे मिशन, जल जीवन मिशन हो या अटल भूजल योजना, सभी पर तेजी से काम हो रहा है। भारत वर्षा जल का जितना बेहतर प्रबंधन करेगा उतना ही Groundwater पर देश की निर्भरता कम होगी। इसलिए 'Catch the Rain' जैसे अभियान चलाए जाने और सफल होने बहुत जरूरी हैं।

1.5 साल पहले तक, 19 करोड़ ग्रामीण परिवारों में से केवल 3.5 करोड़ घरों में ही नल का जल कनेक्शन था। जल जीवन मिशन की शुरुआत के बाद से, लगभग 4 करोड़ ग्रामीण परिवारों को नए नल के पानी के कनेक्शन मिले हैं। आजादी के बाद से पहली बार कोई सरकार पानी की गुणवत्ता की जांच में इस तरह के समर्पण के साथ काम कर रही है। यह परीक्षण पहल हमारी ग्रामीण महिलाओं को जोड़ रही है। कोविड-19 के दौरान, 4.5 लाख से अधिक महिलाओं को जल परीक्षण का प्रशिक्षण दिया गया था।

Next Story