Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

27 सितंबर को मनाया जाएगा 'विश्व पर्यटन दिवस', मोदी सरकार ने टूरिजम सेक्टर को लेकर किए हैं ये बड़े फैसले

World Tourism Day/विश्व पर्यटन दिवस (World Tourism Day) हर साल 27 सितंबर (27 September) को मनाया जाता है। यूएनडब्ल्यूटीओ (UNWTO) द्वारा हर साल आम जनता को पर्यटन (Tourist) को लेकर संदेश भेजा जाता है। वहीं साल 2017 में मोदी सरकार के कार्यकाल के दौरान दूरिज्म सेक्टर की तरफ लोग का सबसे ज्यादा झुकाव हुआ है।

27 सितंबर को मनाया जाएगा विश्व पर्यटन दिवस, मोदी सरकार ने टूरिजम को लेकर लिए ये बड़े फैसले
X
World Tourism Day 27 September modi govt hub

World Tourism Day/ विश्व पर्यटन दिवस (Tourism Day) हर साल 27 सितंबर को मनाया जाता है। इसे अंतर्राष्ट्रीय पर्यवेक्षण दिवस (World Tourism Day) भी कहा जाता है। यूएनडबल्यूटीओ (UNWTO) महासभा ने 1970 में इस दिन को पूरे विश्व में मनाने के लिए चुना था। भारत ही नहीं दुनिया के तमाम देश अपने यहां पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए हमेशा कमा करते रहते हैं। मोदी सरकार (Modi Govt) पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए और टूरिज्म हब (Tourism Hub) बनाने के लिए लगातार काम कर रही है।

10 साल पहले भारत में पर्यटन की स्थिति

पर्यटन को बढ़ावा देने से दूसरे देश के नागरिक किसी भी देश के प्रमुख स्थल और हिल स्टेशन पर घुमने आते हैं। जिससे लोगों को रोजगार मिलता है। लेकिन कभी एक ऐसा भी समय था। जब भारत में पर्यटन आने के बारे में सोचना बंद कर रहे थे। दुनिया में आई आर्थिक मंदी और आतंकवाद की घटनाओं ने भारत में देश विदेश के पर्यटकों के मन में कई सवाल खड़े कर दिए थे।

दुनिया में पर्यटन के लिए यूएनडब्ल्यूटीओ करता है काम

वर्ल्ड टूरिज्म ऑरगेनाइजेशन यूएनडब्ल्यूटीओ पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए दुनिया में काम करता है। इसका उद्देश्य पर्यटन के सामाजिक, सांस्कृतिक, राजनीतिक और आर्थिक मूल्य के वैश्विक समुदाय के बीच जागरूकता बढ़ाना है। इसके जरिए लोगों को नौकरियां, टूरिज्म का कोर्स आदि का काम मिलता है। इस दिवस का मुख्य उद्देश्य अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के बीच पर्यटन की एक भूमिका तैयार करना और इसके साथ ही जागरूकता बढ़ाना है। दुनिया में बसे सामाजिक, सांस्कृतिक, राजनीतिक और आर्थिक विकास के बारे में जानकरी मिल सके।


UNWTO समय समय पर दुनिया के अन्य देशों में सत्र का आयोजन करता रहता है। अब तक इस्तांबुल, बीजिंग, यूरोप, दक्षिण एशिया, अमेरिका, अफ्रीका और मध्य पूर्व के देशों में 32 सम्मेलन हो चुके हैं। विश्व पर्यटन दिवस का रंग नीला है।

जानें क्यों मनाया जाता है विश्व पर्यटन दिवस

विश्व में पर्यटन की बारे में लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से हर साल 27 सितंबर को यह खास दिन मनाया जाता है। यूएनडब्ल्यूटीओ द्वारा हर साल आम जनता को पर्यटन को लेकर संदेश भेजा जाता है। इस दिन प्रतियोगिताओं का आयोजन, पर्यटन की प्रस्तुतियां, पर्यटन के बारे में लोगों को जागरूक करना समेत समाम ऐसे काम किये जाते हैं जिससे आम लोगों को पर्यटन के क्षेत्र की तरफ खीचा जा सके। पर्यटकों की संख्या इस बात पर निर्भर करती है कि विभिन्न आकर्षक स्थल और नए स्थलों की घटना के कारण पर्यटन दुनिया भर में घुमते हैं। विकासशील देशों के लिए आय का मुख्य स्रोत टूरिज्म बना गया है।

टूरिज्म इंडस्ट्री के लिए मोदी सरकार का प्लान

भारत में मोदी सरकार के आने के बाद से ही लगाता प्रधानमंत्री भी हमेशा से टूरिज्म इंडस्ट्री को बढ़ावा देने के लिए कहते रहे हैं। साल 2013 में जीडीपी में टूरिज्म इंडस्ट्री की हिस्सेदारी 6.7 फीसदी रही जो साल 2017 में 9.4 फीसदी हो गई। यह एक बूस्ट था। जो उद्योग के साथ नए रोजगार के अवसर पैदा करते हैं। मोदी सरकार ने दूसरे कार्यकाल में भारत को टूरिज्म का हब बनाने का ऐलान किया है। इसके लिए नई नई योजनाएं भी चलाई जा रही हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में बहुत ही कम लोग घुमने जाते हैं और पैसा खर्ज करते हैं। ऐसे में भारत में टूरिज्म इंडस्ट्री अभी शुरुआती दिनों में है।

मोदी सरकार ने पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए किये ये बड़े फैसले

बीते 10 साल पहले दूरिज्म के क्षेत्र में कम ही लोग जाता करते हैं। लेकिन साल 2014 में मोदी सरकार के आने के बाद टूरिज्म इंडस्ट्री में एक बड़ा बदलाव आया और सरकार ने दूरिज्म इंडस्ट्री को बढ़ावा देने के लिए कई बड़े फैसले लिए हैं...

1. दूरिस्टों को ई वीजा की एक साल की जगह पांच साल की सुविधा

2. पर्यटन स्थलों पर विदेशी भाषाओं में साइन बोर्ड

3. वीजा शुल्क में भी कमी

4. नए नए टूरिस्ट स्पॉट बनाना, जैसे सरदार पटेल का स्टैच्यू

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story