Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

World Students Day: आठ साल पहले एपीजे कलाम को समर्पित किया विश्व छात्र दिवस, जानिए क्या है इसकी जरुरत

World Students Day: 15 अक्टूबर (15 October) को जहां विश्व छात्र दिवस (World Students Day) मनाया जाता है> वहीं भारत में छात्र दिवस के साथ एपीजे अब्दुल कलाम (APJ Abdul Kalam Birth Anniversary) का जन्मदिन मनाया जाता है। जिसे साल 2010 में यूएन ने कलाम को समर्पित कर दिया था। वो एक प्रसिद्ध वैज्ञानिक ही नहीं विचारक, दार्शनिक और एक शिक्षक भी थे।

World Students Day: आठ साल पहले एपीजे कलाम को समर्पित किया विश्व छात्र दिवस, जानिए क्या है इसकी जरुरत
X

World Students Day: हर साल 15 अक्टूबर (15 October) को विश्व छात्र दिवस (World Students Day) मनाया जाता है। इस दिन भारत के महान वैज्ञानिक और पुर्व राष्ट्रपति डॉ एपीजे अब्दुल कलाम का जन्मदिन (APJ Abdul Kalam Birth Anniversary) मनाया जाता है। उन्होंने हमेशा एक शिक्षक की तरह जीवन में हमेशा बेहतर बनाने के लिए प्रेरित किया। साल 2010 में संयुक्त राष्ट्र संगठन (UNO) ने एपीजे अब्दुल कलाम के जन्मदिवस को विश्व छात्र दिवस ​​के रूप में मनाने का ऐलान किया था।

जानें कौन थे एपीजे अब्दुल कलाम

भारत के मिसाइल मैन कहे जाने वाली एपीजे अब्दुल कलाम का जन्म 1931 में तमिलनाडु के रामेश्वरम में हुआ था। उनका बचपन बहुत ही गरीबी में बीता लेकिन अपने काम से उन्होंने एक महान उपलब्धि पाई। पढ़ाई के बाद उन्होंने डीआरडीओ और इसरो के साथ एक इंजीनियर के रूप में काम किया। अपने काम के दौरान उन्होंने कई महान काम किए। इसमे पोखरण परमाणु परीक्षण सबसे ज्यादा सुर्खियों में रहा। कलाम 2002 से 2007 तक भारत के 11वें राष्ट्रपति रहे।

वो एक प्रसिद्ध वैज्ञानिक ही नहीं विचारक, दार्शनिक और एक शिक्षक भी थे। जो हमेशा लोगों को प्रेरित किया करते थे। उनके जीवन से जुड़ी कई किताबें भी लिखी गई हैं। जिनमें से सबसे फेमस विंग्स ऑफ फायर और इंडिया 2020 है। कलाम को आधुनिक भारत का जनक भी कहा जा सकता है। जिन्होंने हमेशा युवाओं में जबरदस्त विश्वास दिखाया है। उनके दुर्लभ और प्रेरक उद्धरण ऐसे हैं जो किसी भी छात्र को प्रेरित कर सकते हैं।

क्यों मनाया जाता है विश्व छात्र दिवस

संयुक्त राष्ट्र संगठन (UNO) ने मना का कलाम एक महान वैज्ञानिक ही नहीं बल्कि एक शिक्षक भी थे, जो हमेशा युवाओं को प्रेरित किया करते थे। कलाम ने हमेशा छात्रों को अपने लेखन और भाषणों के माध्यम से जीवन में बेहतर करने के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने हमेशा कहा कि एक छात्र को अनुशासित जीवन जीना चाहिए और कभी भी बुराई के रास्ते पर नहीं चलना चाहिए।

कलाम का विचार था कि एक छात्र को हमेशा अपने चरित्र को इस तरह से ढालने का प्रयास करना चाहिए कि यह उनके जीवन में सर्वोच्च प्राथमिकता बन जाए। छात्र एक अच्छे नागरिक, भविष्य के प्रतीक और समाज की मदद करके समाज की बेहतरी में प्रमुख भूमिका निभाते हैं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story