Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हाई राइज ओवरहेड इक्विपमेंट चालू करने से बना विश्व कीर्तिमान

खासकर कोरोना महामारी और लॉकडाउन के दौरान रेल मंत्रालय का फोकस पिछले वर्षों के माल ढुलाई के आंकड़ों को पार करते हुए भारतीय रेलवे के इतिहास के पन्ने तैयार कर रहा है।

हाई राइज ओवरहेड इक्विपमेंट चालू करने से बना विश्व कीर्तिमान
X

हरिभूमि ब्यूरो.नई दिल्ली। भारतीय रेलवे की मालगाड़ियों के पहिए कोरोना महामारी संकट के दौरान भी चौबीसों घंटे रेल ट्रैक पर दौड़ रहे हैं। इसी बीच एक हाई राइज ओवर हेड इक्विपमेंट (ओएचई) यानि विद्युतीकृत क्षेत्र में एक डबल स्टैक कंटेनर ट्रेन चलाने से भारतीय रेलवे के इतिहास में एक नया विश्व मानदंड कायम हो गया है। रेल मंत्रालय के अनुसार भारतीय रेलवे एक हाई राइज ओवर हेड इक्विपमेंट (ओएचई) को चालू करके एक नया विश्व मानदंड बना लिया है। इस मालवाहक ट्रेन में 7.57 मीटर की तार की ऊंचाई होती है, जिसे पश्चिम रेलवे ने विद्युतीकृत क्षेत्र में गुजरात के पालनपुर और बोटाद स्टेशनों के बीच सफलतापूर्वक डबल स्टैक कंटेनर चलाया है।

रेलवे के अनुसार यह बड़ी कामयाबी पूरी दुनिया में अपनी तरह की पहली बड़ी पहल है, जो भारतीय रेलवे के लिए एक नवीनतम हरित पहल के रूप में ग्रीन इंडिया के महत्वाकांक्षी मिशन को भी बढ़ावा देगी। इस प्रकार से भारतीय रेलवे ओएचई क्षेत्र में उच्च पहुंच वाले पैनोग्राफ के साथ डबल स्टैक कंटेनर ट्रेन चलाने वाला पहला रेलवे बन गया है। रेलवे का इस तरह के आधुनिक कदमों का जोर माल ढुलाई में नवाचार, गति और अनुकूलन पर है। खासकर कोरोना महामारी और लॉकडाउन के दौरान रेल मंत्रालय का फोकस पिछले वर्षों के माल ढुलाई के आंकड़ों को पार करते हुए भारतीय रेलवे के इतिहास के पन्ने तैयार कर रहा है।

कोरोना संकट में सक्रिय रहा रेलवे

रेलवे के अनुसार कोरोना संकट के कारण देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान यानि 24 मार्च से 10 जून तक रेलवे की चौबीसो घंटे आवश्यक सामानों की खेप की आपूर्ति के लिए 32.40 लाख से अधिक वैगनों में लदान कर चुका है, जिनमें से 18 लाख से अधिक वैगन के जरिये देशभर में खाद्यान्न, नमक, चीनी, दूध, खाद्य तेल, प्याज, फल और सब्जियां, पेट्रोलियम उत्पाद, कोयला, उर्वरक इत्यादि आवश्यक वस्तुओं की ढुलाई की गई। जबकि 1 अप्रैल से 10 जून तक भारतीय रेलवे ने अपने लगातार निर्बाध मालगाड़ियों के परिचालन के जरिए 178.68 मिलियन टन वस्तुओं का परिवहन किया है। इसमें इस अवधि के दौरान रेलवे ने पिछले वर्ष की इसी अवधि में 6.79 मिलियन टन की तुलना में 12.74 मिलियन टन खाद्यान्न की ढुलाई की है। इसके अलावा भारतीय रेलवे द्वारा 22 मार्च से 10 जून तक कुल 3,897 पार्सल ट्रेनें भी चलाई गई हैं, जिनमें से 3,790 ट्रेनें रियल टाइम टेबल के अनुसार चलने वाली हैं। इन पार्सल ट्रेनों में कुल 1,39,196 टन खेप की ढुलाई हुई है।

Next Story