Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Ozone Day: लॉकडाउन ने भरे ओजोन के सबसे गहरे जख्म, जानें कैसे शुरू हुई वर्ल्ड ओजोन डे की शुरुआत

जहां लॉकडाउन के कारण लोगों को कई परेशानियों का सामना करना पड़ा। वहीं कहा जा सकता है कि ओजोन लेयर के लिए लॉकडाउन काफी फायदेमंद रहा। हाल में हुई इंडियन साइंटिस्ट की रिसर्च कहती है कि कई देश में लॉकडाउन होने के बाद प्रदूषण में 35 प्रतिशत की कमी और नाइट्रोजन ऑक्साइड में 60 प्रतिशत गिरावट देखने को मिली है।

Ozone Day: लॉकडाउन ने भरे ओजोन के सबसे गहरे जख्म, जानें कैसे शुरू हुई वर्ल्ड ओजोन डे की शुरुआत
X
वर्ल्ड औजोन डे (फाइल फोटो)

आज पूरी दुनिया में वर्ल्ड ओजोन डे मनाया जा रहा है। जहां लॉकडाउन के कारण लोगों को कई परेशानियों का सामना करना पड़ा। वहीं कहा जा सकता है कि ओजोन लेयर के लिए लॉकडाउन काफी फायदेमंद रहा। हाल में हुई इंडियन साइंटिस्ट की रिसर्च कहती है कि कई देश में लॉकडाउन होने के बाद प्रदूषण में 35 प्रतिशत की कमी और नाइट्रोजन ऑक्साइड में 60 प्रतिशत गिरावट देखने को मिली है।

कार्बन डाइऑक्साइड का स्तर भी हुआ कम

वहीं इस दौरान ओजोन लेयर को नुकसान पहुंचाने वाले कार्बन का उत्सर्जन भी प्रतिशत तक कम हुआ। इसके साथ ही कार्बन डाइऑक्साइड का स्तर भी कम हुआ है। वहीं आपको बता दें कि ओजोन लेयर को नुकसान पहुंचाने के पीछे यही फेक्टर हैं।

ओजोन लेयर पर हुआ सबसे बड़ा छेद ठीक हुआ है

बताया जा रहा है कि साल 2020 अप्रैल महीने की शुरूआत में ओजोन लेयर पर हुआ सबसे बड़ा छेद ठीक हुआ है। इस बात की पुष्टि साइंटिस्ट मे की है कि आर्कटिक के ऊपर बना 10 लाख वर्ग किलोमीटर की परिधि वाला छेंद बंद हो गया है। वहीं कोरोना काल में ओजोन लेयर को काफी राहत मिली है। इसके साथ ही आने वाले समय में और भी पॉजिटिव इफेक्ट देखने को मिल सकते हैं। आज वर्ल्ड ओजोन डे के मौके पर हम आपको बताने जा रहे हैं कि वर्ल्ड डे की शुरूआत कैसे हुई थी।

Also Read: Coronavirus India Update: देश में कोरोना हर दिन तोड़ रहा रिकॉर्ड, आज 96 हजार से ज्यादा आये केस, मरने वालों का आंकड़ा पहुंचा 76 हजार के पार

इस साल ओजोन वर्ल्ड डे की थीम ओजोन फॉर लाइफ है

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ओजोन परत मे हो रहे क्षरण को रोकने के लिए संयुक्त राष्ट्र ने शुरूआत की। कनाडा के मॉन्ट्रियल में 16 सितंबर 1987 को कई देशों के बीच एक समझौता हुआ था, जिसे मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉस कहा जाता है। साल 1 जनवरी 1987 को इसकी शुरूआत हुई। वहीं इस प्रोटोकॉल का लक्ष्य 2050 तक ओजोन परत को नुकसान पहुंचाने वाले को रसायनों तो कंट्रोल करना है। इसमें भारत में शामिल है। वहीं इस साल ओजोन वर्ल्ड डे की थीम ओजोन फॉर लाइफ है।

Shagufta Khanam

Shagufta Khanam

Jr. Sub Editor


Next Story
Top