Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

World Ozone Day 2019: जोन परत हमारी धरती पर जीवन के लिए इतनी महत्वपूर्ण, क्षय रोकने में 30 वर्षो में मिली सफलता

विश्व ओजोन दिवस (World Ozone Day) हर साल 16 सितंबर को मनाया जाता है। ओजोन दिवस 2019 की थीम है ''32 Years and Healing'' इसे मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल (Montreal Protocol) की 32वीं वर्षगांठ के अवसर पर मनाया जा रहा है।

World Ozone Day 2019: क्यों है ओजोन परत हमारी धरती पर जीवन के लिए इतनी महत्वपूर्ण
X
World Ozone Day 2019 and Prevention of Ozone layer depletion 32 years of healing

विश्व ओजोन दिवस(World Ozone Day 2019) हर साल पूरी दुनिया में 16 सितंबर को मनाया जाता है। इस बार ओजोन दिवस की थीम है 32 Years and Healing। ओजोन दिवस मनाने का हमारा मुख्य उद्देश्य है क्षय होती ओजोन परत ( Ozone Layer) के प्रति लोगों में जागरूकता लाना। मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल (Montreal Protocol) का 32वीं वर्षगांठ भी मनाई जा रही है। इसे दुनिया का सबसे सफल पर्यावरण समझौता माना जाता है। इस संधि को 16 सितंबर 1987 को साइन किया गया था। इस वियना संधि के तहत ओजोन परत के संरक्षण का संकल्प सभी देशों द्वारा लिया गया था।

अगर ओजोन परत न होती



वायुमंडल में 20 से 40 किलोमीटर के बीच पाई जाने वाली ओजोन परत पृथ्वी को सूर्य से आने वाली हानिकारक अल्ट्रा वायलट किरणों से बचाती है। अगर ओजोन परत न हो तो मानव जीवन सकट में पड़ सकता है, क्योंकि अल्ट्रा वाइलट किरणें अगर सीधे बिना ओजोन से गुजरे धरती तक पहुंच जाए तो न सिर्फ मनुष्य बल्कि पेड़-पौधों और जानवरों के जीवन के लिए खतरनाक साबित हो सकती है,ये किरणों हमारे शरीर कैंसर जैसी भयानक बीमारियों का कारक बन सकती है ऐसे में ओजोन परत का संरक्षण बेहद महत्वपूर्ण है।

ओजोन परत इंसानों द्वारा पर्योवरण को पहुंचने वाले नुकसान से लगातार प्रभावित हो रही है और धीरे-2 क्षय होती जा रही है ऐसे में अगर इसे नहीं रोका गया तो मानव जीवन के लिए बड़ा संकट पैदा हो जाएगा। इस गंभीर संकट को देखते हुए दुनियाभर में इसके संरक्षण को लेकर जागरुकता अभियान चलाया जा रहा है।

ओजोन क्षरण को रोकनें मे मिली सफलता

इस वर्ष की ओजोन दिवस की थीम 32 Years and Healing विश्व समुदाय द्वारा ओजोन परत के संरक्षण के तीन दशकों के उल्लेखनीय योगदान को याद करना है जिसमें हमें काफी हद तक सफलता मिली है। ओजोन परत संरक्षण के प्रयासों ने 1990 से 2010 तक अनुमानित 135 बिलियन टन कार्बन डाइऑक्साइड के बराबर उत्सर्जन को रोककर जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई में योगदान दिया है। ओजोन डिप्लेशन के वैज्ञानिक मूल्यांकन 2018 से पता चला कि 2000 के बाद से ओजोन परत के कुछ हिस्से प्रति दशक 1-3% से ठीक हो रहे हैं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story