Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

World Mental Health day: दुनिया में मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर रखने के लिए चलाई गईं ये मुहिमें

World Mental Health day/ हर साल 10 अक्टूबर (10 October) को विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस (World Mental Health Day) मनाया जाता है। जिसका मकसद लोगों को मानसिक स्वास्थ्य के बारे में जागरुक करना है। ताकि लोगों का स्वास्थ्य ठीक रह सके।

World Mental Health day: दुनिया में मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर रखने के लिए चलाई गईं ये मुहिमें
X
World Mental Health day campaign to improve health in world

World Mental Health day/ हर साल 10 अक्टूबर (10 October) को विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस (World Mental Health Day) मनाया जाता है। यह सिर्फ एक देश नहीं बल्कि विश्व के कई देशों में मनाया जाता है। मानसिक स्वास्थ्य मुद्दों के बारे में जागरूकता बढ़ाने में मदद करने के उद्देश्य और सामाजिक जागरूकता के बारे में लोगों को बताया जाता है। कैसे आप अपनी हेल्थ को ठीक रख सकते हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन की पहल पर हुई शुरुआत

पहली बार 1992 में विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की पहल पर इस दिन को मनाने की शुरुआत हुई। जो दुनिया के 153 से अधिक देशों में मनाया जा है। हर बार हजारों लोग साला जागरूकता कार्यक्रम चलाते हैं। जिसमें मानसिक स्वास्थ्य को कैसे ठीक रखा जा सका है। ताकि दुनिया भर में लोगों के जीवन पर मानसिक बीमारी और उसके प्रमुख प्रभावों पर ध्यान दिया जा सके।

हर साल होती है अलग थीम

हर साल इसकी थीम दुनिया में बढ़ने वाली बीमारियों पर आधारित होती है। जैसे कि साल 2019 में आत्महत्या की रोकथाम विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर फोकस रखा गया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन समय समय पर कई मुहिम चलाता रहा है जो विश्व स्तर पर प्रमुख होती हैं।


डब्ल्यूएचओ ने दी है चेतावनी

डब्ल्यूएचओ ने चेतावनी दी है कि 2030 तक अवसाद विश्व स्तर पर सबसे बड़ी बीमारी होगी। इसको लेकर आगे कहा गया है कि मानसिक स्वास्थ्य सेवाओं में कई देशों मानव और वित्तीय संसाधनों की कमी है। मुद्दे के प्रति लोगों की जागरूकता बढ़ाने के लिए पैसे की जरुरत होती है। मानसिक स्वास्थ्य को वैश्विक प्राथमिकता बनाने के लिए कई कदम उठाए गए हैं।

डब्ल्यूएचओ यूएन के सहयोग से चलाता है नई नई मुहिमें

डब्ल्यूएचओ द्वारा हर साल संयुक्त राष्ट्र इस आयोजन को बढ़ावा देने में शामिल होता है। मानसिक स्वास्थ्य का शारीरिक स्वास्थ्य के संबध रहता है ऐसे में अवसाद की वजह से हृदय और रक्तवाहिकीय रोग होता है। समय पर भोजन, रोजाना व्यायाम, नींद, यौन व्यवहार, मद्य और धूम्रपान जैसी चीजों का समय पर ना होना ऐसे बीमारियों को बढ़ावा देता है।

मानसिक बीमारी के बढ़ने की वजह बेरोजगार, परिवार में स्ट्रेस, गरीबी, नशीले पदार्थों का सेवन आधी से भी यह बीमारी होती है। ऐसे में इन बीमारियों से दूर रहने के लिए डब्ल्यूएचओ समय समय पर जागरूकता अभियान चलाता रहा है। जिसका असर एक देश नहीं बल्कि पूरे विश्व पर पड़ता है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story