Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हरिभूमि एक्सक्लूसिव : डब्ल्यूएचओ की कमान अगले महीने संभालेगा भारत, मुश्किल वक्त में दुनिया को पीएम नरेंद्र मोदी से उम्मीद

कोरोना से छिड़ी जंग में जहां भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व और रणनीति की विश्वभर में चर्चा हो रही है वहीं भारत अब विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) जैसे विश्वस्तरीय सर्वोच्च स्वास्थ्य संगठन का नेतृत्व अगले महीने संभालेगा। अगले महीने ही डब्लूएचओ के मुख्यालय में आहूत होने वाली सालाना बैठक इसकी औपचारिक घोषणा होगी।

पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व की विश्वभर में चर्चा, डब्ल्यूएचओ की कमान अगले महीने संभालेगा भारत
X

कोरोना से छिड़ी जंग में जहां भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व और रणनीति की विश्वभर में चर्चा हो रही है वहीं भारत अब विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) जैसे विश्वस्तरीय सर्वोच्च स्वास्थ्य संगठन का नेतृत्व अगले महीने संभालेगा। अगले महीने ही डब्लूएचओ के मुख्यालय में आहूत होने वाली सालाना बैठक इसकी औपचारिक घोषणा होगी।

सत्ता प्रतिष्ठा ने से जुड़े विश्वस्त सूत्रों ने हरिभूमि को बताया कि डब्लूएचओ एग्जिक्यूटिव बोर्ड का अगला अध्यक्ष भारत से होगा, ये तय कर लिया गया है। अभी तक विश्व स्वास्थ्य की नब्ज हाथ रखने की जिम्मेदारी इस सर्वोच्च पद पर रहते हुए जापान निभा रहा था। आगामी 22 मई को वर्ल्ड हेल्थ एसेंबली कांफ्रेंस में भारत, जापान का स्थान लेगा। एग्जिक्यूटिव बोर्ड के 34 नए सदस्यों का चयन 18 मई को हो जाना है। उसी के बाद नए कार्यकाल के लिए अध्यक्ष का चयन होना है।

सूत्रों ने बताया कि डब्लूएचओ के नए अध्यक्ष के लिए दक्षिण-पूर्व एशिया के समूह देशों ने मिलकर एकसाथ एकसुर में भारत का नाम अगले तीन सालों के लिए अनुशंसित किया है। इतना ही नहीं दबाव बनाने वाले इन देशों के समूह ने भारत का नाम रीजनल-ग्रुप्स के अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी के लिए बारी के आधार पर प्रत्येक साल भारत का नाम अनुशंसित किया।

जाहिर है भारत की कोरोना से अब तक की छिड़ी जंग में काफी हद तक सफलता को देखते हुए विश्व बिरादरी को विश्वास हो चला है कि स्वास्थ्य के मामले में विश्व का नेतृत्व को भारत को ही करना चाहिए। खुशी की बात ये है कि इस सर्वोच्च संगठन की ड्राइविंग सीट पर ही नहीं प्रोग्राम और एडमिनिस्ट्रेशन कमेटी के सदस्य के रूप में भी भारत के प्रतिनिधि इंडोनेशिया की जगह नामित किए जाएंगे। एक तरह से समूचे डब्लूएचओ के लगभग हर विंग में भारत का प्रतिनिधि आने वाले समय में विद्यमान रहेगा।

Next Story