Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

World Day Against Child Labour 2019 : विश्व बाल श्रम निषेध दिवस कब है और क्यों मनाया जाता है

World Day Against Child Labour 2019 : बाल श्रम न सिर्फ भारत के लिए बल्कि दुनिया के लिए चुनौती बन गया है। दुनिया में बाल श्रम को रोकने के लिए हर साल 12 जून को विश्व बाल श्रम निषेध दिवस (World Day Against Child Labour) मनाया जाता है।

World Day Against Child Labour 2019 : विश्व बाल श्रम निषेध दिवस कब है और क्यों मनाया जाता है
X

World Day Against Child Labour 2019 : विश्व बाल श्रम निषेध दिवस कब है और क्यों मनाया जाता है अगर आपको नहीं पता तो बता दें कि 12 जून (12 June) को वर्ल्ड डे अगेंस्ट चाइल्ड लेबर (World Day Against Child Labour 2019) मनाया जाता है। दुनिया में बाल श्रम को रोकने के लिए हर साल 12 जून को विश्व बाल श्रम निषेध दिवस (World Day Against Child Labour) मनाया जाता है। कहते हैं एक मजबूत देश का निर्माण तब होगा जब वहां का हर बच्चा खाना खाकर स्कूल जाएगा। पर दुनिया के ज्यादातर देशों में ऐसा नहीं है। बच्चों को कभी जबरदस्ती को कभी स्वेच्छा से मजदूरी करनी ही पड़ती है। यह न सिर्फ भारत के लिए बल्कि दुनिया के लिए चुनौती बन गया है। विश्व बाल श्रम निषेध दिवस की शुरुआत अंतर्राष्ट्रीय संगठन द्वारा आज से 17 साल पहले 2002 में की गई थी। इस दिवस की शुरुआत करने का मुख्य उद्देश्य बाल श्रम को वैश्विक स्तर पर पूरी तरह से खत्म करना था। पिछले 17 साल में बाल श्रम कितना कम हुआ इसपर कुछ कह पाना मुश्किल है। अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (International labor organization) द्वारा जब भी इसे लेकर रिपोर्ट आती है भारत उसमें काफी पीछे नजर आता है।



ILO की रिपोर्ट 'बाल श्रम के वैश्विक अनुमान परिणाम और रुझान, 2012-2016' में कहा गया है कि पाँच और 17 वर्ष की उम्र के बीच 152 मिलियन बच्चों को विशेष परिस्थितियों में श्रम करने को मजबूर किया जा रहा है।

इसी रिपोर्ट में कहा गया है कि 152 मिलियन में से 73 मिलियन बच्चे खतरनाक काम करते हैं। जिसके एवज में उन्हें मजदूरी कम मिलती है। बच्चों के काम करने की मूल समस्या निर्धनता और अशिक्षा है। जबतक देश में भुखमरी रहेगी तबतक हम इस समस्या से निजात नहीं पा पाएंगे।

देश में हर स्तर पर काम करने की जरूरत है। प्रशासनिक, सामाजिक और व्यक्तिगत प्रयास के जरिए ही सुधार हो सकता है। साथ ही देश में कुछ बेहतर योजनाएं बनाई जाएं और बेहतर ढंग से कार्यानवित की जाए जिससे लोग आर्थिक स्तर पर मजबूत हो ताकि उनके बच्चों को काम न करना पड़े।

देश में तय तो है कि 14 वर्ष के नीचे किसी बच्चे से कोई काम नहीं करवाया जाएगा पर उसपर अमल कम ही होता है। प्रशासन को जमीनी स्तर पर उतरकर इसपर रोक लगाने का प्रयास करना चाहिए। व्यक्तिगत तौर पर हमारा कर्तव्य बनता है कि हम बच्चों से काम न करवाएं।

साथ ही लोगों को भी जागरूक करें कि बच्चों से काम न लिया जाए। बाल श्रम रोकने के लिए सामाजिक क्रांति की जरूरत है। ताकि लोग अपने फायदे के लिए देश के भावी निर्माताओं व कर्णधारों के भविष्य पर प्रश्नचिन्ह न लगा सकें।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story