Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

World Day Against Child Labour 2019 : पूरी दुनिया में 152 मिलियन बच्चे हैं बाल श्रम के चपेट में, जानें इस साल की थीम

बाल श्रम दिवस (World Day Against Child Labour 2019) की शुरुआत आज के ही दिन साल 2002 में हुई थी। इसे 'द इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाइजेशन' (International Labour Organization) ने बच्चों के अधिकारों की लड़ाई के लिेए यह मुहिम चलाई जिसे आज पूरा विश्व समुदाय बाल श्रम दिवस (World Day Against Child Labour) के रूप में मनाता है।

World Day Against Child Labour 2019 : पूरी दुनिया में 152 मिलियन बच्चे हैं बाल श्रम के चपेट में, जानें इस साल की थीम
X

बाल श्रम दिवस (World Day Against Child Labour 2019) की शुरुआत आज के ही दिन साल 2002 में हुई थी। इसे 'द इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाइजेशन' (International Labour Organization) ने बच्चों के अधिकारों की लड़ाई के लिेए यह मुहिम चलाई जिसे आज पूरा विश्व समुदाय बाल श्रम दिवस (World Day Against Child Labour) के रूप में मनाता है। संगठन ने पूरे विश्व में 14 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को मजदूरी के जाल से निकालकर शिक्षा की ओर ले जाने की ओर प्रयास करती है। वहीं आज के दिन कई संगठन बचपन बचाने की दिशा में कार्यक्रम करते हैं। तो आईए इस गंभीर मुद्दे पर जानते हैं कुछ रोचक बातें।

Image Credit : Twitter


वैश्विक संस्थानों द्वारा जारी किए गए रिपोर्ट के अनुसार पूरी दुनिया में (World Wide Child Labour) कुल 152 मिलियन बच्चे बाल मजदूरी की चपेट में हैं। खेलने-पढ़ने के दिनों में ये बच्चे कई खतरनाक काम में लग जाते हैं और इनकी मासूमियत न जानें कब जिम्मेदारियों में तब्दिल हो जाती है। बाल श्रम (Child Labour) की चपेट में बचपन (Childhood) तो खत्म हो ही रहा है साथ ही भारत का भविष्य भी गर्त में जा रहा है। सरकार इस दिशा में बहुत से नियम कानून बनाई है लेकिन जमीन पर हमें इसका असर नहीं दिखता है। इस दिशा में अगर आम लोग कदम बढ़ाते हैं तो जरूर बदलाव देखा जा सकता है।

Image Credit : Twitter


बाल श्रम दिवस (World Day Against Child Labour 2019 Theme) का थीम

हर साल विश्व समुदाय चाइल्ड लेबर (Child Labour) को रोकने के लिए एक थीम तय करती है। इस साल का थीम (World Day Against Child Labour 2019 Theme) है 'बच्चों को खेतों में काम नहीं, बल्कि सपनों पर काम करना चाहिए' (Children shouldn't work in fields, but on dreams). बाल मजदूरी पूरी दुनिया में व्याप्त है। लगभग हर क्षेत्र में चाइल्ड लेबर देखने को मिलता है लेकिन कृषि में यह सबसे ज्यादा है। 10 में से हर 7 बच्चा खेतों में काम करने पर मजबूर है। इसी को देखते हुए विश्व समुदाय ने इस साल का थीम खेतों में बाल मजदूरी करने वाले बच्चों पर रखा है।

Image Credit : Twitter



और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story