Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

World Contraception Day: 26 सितंबर को मनाया जाएगा विश्व गर्भ निरोधक दिवस, इस राज्य में महिलाए सबसे कम इस्तेमाल करती हैं ये चीजें

World Contraception Day/ हर साल दुनिया में 26 सितंबर (26 September) को विश्व गर्भ निरोधक दिवस (World Contraception Day ) मनाया जाता है। भारत ही नहीं दुनिया के कई देशों में गर्भ निरोध के प्रति लोगों को यौन जागरूकता और युवा पीड़ी को इसके बारे में सही जानकारी देना जैसे कार्यक्रम समय समय पर किए जाते हैं।

World Contraception Day: 26 सितंबर को मनाया जाएगा विश्व गर्भ निरोधक दिवस, भारकने जनसंख्या को लेकर उठाए ये अहम कदमWorld Contraception Day celebrated 26 September india take steps population

World Contraception Day/हर साल दुनिया में 26 सितंबर (26 September) को विश्व गर्भ निरोधक दिवस (World Contraception Day ) मनाया जाता है। भारत ही नहीं दुनिया के कई देशों में गर्भ निरोध के प्रति लोगों को यौन जागरूकता और युवा पीड़ी को इसके बारे में सही जानकारी देना जैसे कार्यक्रम समय समय पर किए जाते हैं। इसका मकसद जनसंख्या नियत्रण से भी है। डब्ल्यूएचओ का एक स्लोगन है - 'आपका भविष्य-आपकी पसंद, आपका गर्भ निरोधक उपाय'।

भारत के लोगों में विशेष कर युवा पीड़ी में यौन जागरूकता बढ़ाने तथा अनियोजित गर्भधारण बचाव के उपायों को बताया जाता है। भारत में डबल्यूसीडी इसके लिए काम करती है जो प्रजनन तथा यौन स्वास्थ्य के क्षेत्र में कुछ एनजीओ और अस्पतालों की मदद से काम करती है। शहरों ही नहीं गांवों तक लोगों को इसके बारे में जानकारी दी जाती है।


डबल्यूसीडी की रिपोर्ट से खुलासा

महिला एवं बाल विकास मंत्रालय (डबल्यूसीडी) की रिपोर्ट के मुताबिक, भारत के 21 राज्यों में 94.5 फीसदी विवाहित महिलाओं को गर्भ निरोध के उपायों और उसके इस्तेमाल किए जाने वाले साधनों के बारे में जानकारी है। लेकिन जानकारी होने के बावजूद 50 फीसदी महिलाएं ही इस संसाधनों का इस्तेमाल कर रही हैं। इसके अलावा 44 फीसदी ऐसी भी महिलाएं हैं जो शादीशुदा है और उन्हें इसके बारे में पता है। लेकिन फिर भी वो इन उपायों को नहीं अपनाती हैं।

इस राज्य में महिलाए सबसे कम इस्तेमाल करती हैं गर्भ निरोधक

एक सर्वे रिपोर्ट के मुताबिक, पश्चिम बंगाल और जम्मू कश्मीर में रहने वाली महिलाओं की बात करें तो वहां पहल क्रमश 95 फीसदी और 83 फीसदी महिलाओं को इसके बारे में जानकारी है। लेकिन जो इसका इस्तेमाल नहीं करती हैं वो 67 फीसदी और 27 फीसदी हैं। जबकि जम्मू-कश्मीर में सबसे कम महिलाएं गर्भ निरोधक इस्तेमाल करती हैं और नसबंदी में बराबरी की हिस्सेदारी है। ऐसे में ये आंकड़े चौंकाने वाले हैं।


जनसंख्या पर नियंत्रण के लिए उठाए ये कदम...

1. समय समय पर लोगों को गर्भ निरोध के बारे में जानकारी देना और प्रचार प्रसार के माध्यम से जागरूक करना।

2. नवविवाहित जोड़ों को कंडोम किट देना। कई राज्यों में समय समय पर इस योजना को लाया गया। इससे प्रजनन तथा यौन स्वास्थ्य के प्रति जागरुक करना।

3. सरकार परिवार नियोजन के उपायों के बारे में लोगों को बताती है। इसमें एक जनसंख्या दिवस और दूसरा गर्भ निरोधन दिवस शामिल है। कैसे बढ़ती आबादी को नियंत्रण कर सकते हैं।

4. परिवार नियोजन का सबसे आसान तरीका कॉन्डम, फिमेल कॉन्डम, गर्भ निरोधक गोलियां, गर्भ निरोधक इंजेक्शन, कॉपर-टी किट आदि साधन हैं। अगर महिलाएं इन्हें समय पर लेती रहें तो प्रेग्नेंट होने से रूक सकती हैं।

5. गर्भ निरोधक गोलियों की तरह फ्लेक्सिबल डिवाइस का इस्तेमाल किया जाता है। अनचाही प्रेग्नेंसी को 99 फीसदी तक खत्म किया जा सकता है।

गर्भ निरोधक दिवस ही नहीं आप किसी भी दिन और कभी भी परिवार नियोजन के बारे में एक समय सीमा के अंदर सुरक्षित और आसान तरीकों के बारे में डॉक्टर, नजदीकी डिस्पेंसरी और अस्पतालों में जाकर जानकारी ले सकते हैं।

Next Story
Top