Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

West Bengal: बंगाल में BJP का बड़ा दांव- सुकांता मजूमदार को अध्यक्ष और दिलीप घोष को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष किया नियुक्त

West Bengal: घोष को पिछले पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के मद्देनजर लगातार दूसरी बार प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। अब वह नड्डा के साथ भाजपा की राष्ट्रीय टीम में उपाध्यक्ष होंगे। पार्टी ने इसके साथ ही पिछले दिनों उत्तराखंड की राज्यपाद के पद से इस्तीफा देने वाली बेबी रानी मौर्य को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष नियुक्त किया है।

West Bengal: भाजपा ने बंगाल में सुकांता मजूमदार को अध्यक्ष और दिलीप घोष को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष किया नियुक्त
X

 भाजपा ने बंगाल में सुकांता मजूमदार को अध्यक्ष और दिलीप घोष को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष किया नियुक्त

West Bengal भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने सोमवार को बंगाल में बड़ा बदलाव किया है। पार्टी ने सांसद सुकांता मजूमदार (Sukanta Majumdar) को पार्टी की पश्चिम बंगाल इकाई का अध्यक्ष और दिलीप घोष (Dilip Ghosh) और उत्तराखंड की पूर्व राज्यपाल बेबी रानी मौर्य को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया है। भाजपा महासचिव अरुण सिंह (BJP General Secretary Arun Singh) की ओर से जारी अलग-अलग विज्ञप्तियों में जानकारी दी है। इसमे कहा गया कि भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने सांसद सुकांता मजूमदार को पश्चिम बंगाल की इकाई का अध्यक्ष नियुक्त किया। उनकी नियुक्ति तत्काल प्रभाव से लागू होगी।

पश्चिम बंगाल के बालूरघाट से सांसद मजूमदार, दिलीप घोष का स्थान लेंगे। घोष को पिछले पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के मद्देनजर लगातार दूसरी बार प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। अब वह नड्डा के साथ भाजपा की राष्ट्रीय टीम में उपाध्यक्ष होंगे। पार्टी ने इसके साथ ही पिछले दिनों उत्तराखंड की राज्यपाद के पद से इस्तीफा देने वाली बेबी रानी मौर्य को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष नियुक्त किया है। मौर्य के इस्तीफे के बाद से कयास लगाए जा रहे थे कि आगामी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के मद्देनजर उन्हें भाजपा में कोई जिम्मेदारी दी जा सकती है।

बाबुल सुप्रियो ने ममता से की मुलाकात

टीएमसी में शामिल होने के बाद आज बाबुल सुप्रियो आज बंगाल की सीएम ममता बेनर्जी से मुलाकात की है। इस दौरान उन्होंने ममता का धन्यवाद किया और कहा कि टीएमसी सुप्रीमो ने कहा कि पूरे मन से काम में लग जाओ। पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने कहा कि उन्होंने पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले लोगों को भारतीय जनता पार्टी में अंधाधुंध शामिल किए जाने का विरोध किया था और शायद इसका चुनावों में पार्टी के प्रदर्शन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा। पिछले हफ्ते तृणमूल कांग्रेस में शामिल हुए सुप्रियो ने कहा कि इस मामले पर उनके विचार शायद भाजपा के शीर्ष नेताओं को पसंद नहीं आए।

Next Story